Tuesday, November 9, 2021

'असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए खत्म की पीएचडी की अनिवार्यता

'असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए खत्म की पीएचडी की अनिवार्यता'






केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने दीक्षांत समारोह के मौके पर इविवि में रिक्त असिस्टेंट प्रोफेसर, एसोसिएट और प्रोफेसर के पदों पर भर्ती किए जाने पर भी सहमति प्रदान की‌। उन्होंने कहा कि असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए पीएचडी की अनिवार्यता खत्म की गई है। ताकि मेधावी छात्र विश्वविद्यालयों में असिस्टेंट प्रोफेसर के रूप में आकर शिक्षा व्यवस्था और मजबूत करें। हालांकि नेट की अनिवार्यता बनी रहेगी।

शिक्षामंत्री बनने के बाद पहली बार किसी दीक्षांत समारोह में पहुंचे धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा कि 2018- 19 और 2019-20 सत्र के छात्र-छात्राएं नई जिंदगी में जा रहे हैं जो नई जिम्मेदारियों से भरा होगा। भारत के सबसे पुरातन विश्वविद्यालय में से एक ने आपको मेडल और उपाधि दी है। आप जीवन में सफल होंगे और देश के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभाएंगे। जिस भारत की नियति में विश्व गुरु बनना लिखा है उसकी विरासत से आप निकले हैं।

भारत की शिक्षा व्यवस्था हमारी पूंजी है। देश में धीरे-धीरे शिक्षा व्यवस्था में सुधार हो रहा है। देश में आज नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति लागू है। हमें विश्व की किसी भी भाषा से कोई परहेज नहीं है, लेकिन हमें अपनी मातृभाषा पर गर्व करना चाहिए। जापान और चीन जैसे देश अपनी भाषा के बूते सुपरपावर बने हैं। भारत सरकार ने नेशनल रिसर्च फाउंडेशन की परिकल्पना की है, इसमें साइंस और ह्यूमिनिटीज के विषयों में शोध को बढ़ावा दिया जाएगा।


हमारे डीएनए में प्रजातांत्रिक मूल्य हैं। प्रजातंत्र में व्यक्ति खुद के लिए नहीं बल्कि समाज के लिए जीता है। ऐसी हमारी विरासत है और हमारी शिक्षा व्यवस्था ने भी ऐसा ही हमें सिखाया है। कोरोना के खिलाफ लड़ाई में भारत मजबूती से खड़ा हुआ और देश में दो स्वदेशी वैक्सीन का निर्माण हुआ। प्रयागराज के लिए कहा कि यह महर्षि भरद्वाज की तपोभूमि और चंद्रशेखर आजाद की बलिदान भूमि है। प्राचीन भारत की सभ्यता की गंगा, यमुना, सरस्वती स्रोत है।



डाउनलोड करें हमारी एंड्राइड ऐप गूगल प्ले स्टोर से👇

 Download Govt Jobs UP Android App   

 Free GS Quiz के लिए टेलीग्राम चैनल जॉइन करें👇    

Join FREE GS Quiz Telegram Channel     

वॉट्सएप ग्रुप में जुड़ने के लिए क्लिक करें👇