Tuesday, August 17, 2021

बीएड छात्र का परिणाम घोषित करने पर विचार का निर्देश

 
बीएड छात्र का परिणाम घोषित करने पर विचार का निर्देश



इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने बीएड़ द्वितीय सेमेस्टर की फीस जमा होने के बावजूद याची का परिणाम रोकने के विश्वविद्यालय के आदेश को रद्द कर दिया है और दो माह में निर्णय लेने का निर्देश दिया है।
न्यायालय ने कहा है कि याची ने समय से फीस जमा कर दी थी। कालेज ने फीस जमा होने की सूचना विश्वविद्यालय को नहीं दी। कालेज ने गलती भी मानी और बिना कालेज से स्पष्टीकरण लिए परिणाम घोषित नहीं किया गया। न्यायमूर्ति वी के बिड़ला ने दुर्गा मिश्रा की याचिका पर यह आदेश दिया ।

याचिका पर अधिवक्ता का कहना था कि बी एड प्रथम सेमेस्टर पास करने के बाद याची ने द्वितीय सेमेस्टर की फीस 30 हजार रुपये कालेज में जमा किया। कोविड 19 संक्रमण के कारण परीक्षा नहीं हो सकी । छात्रों को प्रोन्नति दे दी गई। लेकिन याची का परिणाम घोषित नहीं किया गया। कालेज ने फीस जमा होने की सूचना विश्वविद्यालय को नहीं दी। इसमें याची की कोई भूमिका नहीं है। कालेज ने गलती मानी है। इसके बावजूद उसका परिणाम घोषित नहीं किया गया। जिस पर न्यायालय ने उक्त आदेश दिया।