Wednesday, August 11, 2021

लखनऊ विश्वविद्यालय : स्नातक की सीटों में हो सकता है 10 फीसदी का इजाफा

 

लखनऊ विश्वविद्यालय : स्नातक की सीटों में हो सकता है 10 फीसदी का इजाफा




यूपी बोर्ड, सीबीएसई और आईएससी 12 वीं का परिणाम 100 फीसद तक जाने से दाखिले की दौड़ की मुश्किलें देखते हुए डिग्री कॉलेज प्रबंधन ने सीटे बढ़ाने के विकल्प पर काम करना शुरू कर दिया है। नॉन प्रैक्टिकल पाठ्यक्रम में दस फीसद तक सीटें बढ़ना तय है। मेरिट देखने के बाद इस प्रस्ताव पर अमल किया जाएगा। 
केकेसी कॉलेज की प्राचार्या डा. मीता शाह ने कहा कि प्रवेश के लिए आवेदन ज्यादा आ रहे हैं। हम मेरिट देखने के बाद निर्णय लेंगे कि कितनी सीट बढ़ाए जाने की आवश्यकता है। अगर शासन को कोई आदेश आता है सीट बढ़ाने का तो हम कला और वाणिज्य वर्ग में बढ़ा सकते हैं, विज्ञान में मुश्किल है। 

कालीचरन डिग्री कॉलेज के प्राचार्य डा. देवेन्द्र सिंह ने कहा कि मेरिट पिछले से वर्ष ज्यादा जाना तय है। हम विश्वविद्यालय को दस फीसद सीट कला और वाणिज्य वर्ग में बढ़ाने का प्रस्ताव देंगे। केकेवी कॉलेज के प्राचार्य डा. राकेश चन्द्रा ने कहा कि संसाधनों की वजह से विज्ञान वर्ग में सीट नहीं बढ़ाना मुश्किल है। लेकिन कला और वाणिज्य वर्ग में दस फीसद सीट बढ़ा सकते हैं।  

हालांकि प्रैक्टिकल वाले पाठ्यक्रमों में डिग्री कॉलेज सीटें बढ़ाने से गुरेज कर रहे हैं। जिसके पीछे की वजह संसाधन की कमी है। कॉलेज में सीट बढ़ाने के लिए डिग्री कॉलेजों को विश्वविद्यालय को प्रस्ताव देना होता है। जिसकी मंजूरी मिलने के बाद ही बढ़ी सीट पर प्रवेश लिया जा सकेगा।  

लखनऊ, रायबरेली, लखीमपुर, सीतापुर और हरदोई में लखनऊ विश्वविद्यालय से सम्बद्ध 525 डिग्री कॉलेज हैं। जिसमें 20 एडेड डिग्री कॉलेज लखनऊ में हैं। एडेड कॉलेजों में सीट बढ़ने का फायदा छात्रों को मिलेगा क्योंकि एडेड कॉलेजों में फीस कम होती है। इसके अलावा सीट भरने पर प्राइवेट कॉलेज का भी विकल्प छात्र-छात्राओं के पास रहेगा। 
लखनऊ विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा के माध्यम से स्नातक और परास्नातक में प्रवेश लेगा। लेकिन मेरिट के आधार पर प्रवेश लेने वालों के सामने समस्या है कि बड़ी संख्या में छात्र उत्तीर्ण हुए हैं। ऐसे में मेरिट बनाने में दिक्कत आएगी। बड़ी तादाद में छात्र-छात्राओं को एक जैसे नंबर भी दिए गए हैं इसलिए यह तय करना मुश्किल होगा कि किसको दाखिला दिया जाए। 


आईटी कॉलेज और अवध में मेरिट पर एडमिशन

आईटी कॉलेज प्रबंधन ने कोरोना को देखते हुए मेरिट पर ही प्रवेश लेने की योजना बनायी है। 16 अगस्त तक फार्म भरे जा सकते हैं। इसके साथ ही कालीचरण डिग्री कॉलेज और केकेवी ने भी मेरिट पर ही प्रवेश लेने की घोषणा की है। इसके साथ ही अवध कॉलेज भी मेरिट पर ही प्रवेश होगा। अवध डिग्री कॉलेज में अभी आवेदन जारी है। अन्य डिग्री कॉलेज भी मेरिट पर ही एडमिशन लेने पर विचार कर रहे हैं।

एलयू: कला संकाय में बढ़े प्रवेश आवेदन
लखनऊ विश्वविद्यालय कला संकाय में  प्रवेश आवेदनों की संख्या वर्ष 2020 की तुलना में 26.4 फीसद बढ़ी है। कला संकाय में 2020 के अकादमिक सत्र में कुल 4601 आवेदन पत्र प्राप्त किए गए थे जबकि 2021 के अकादमिक सत्र में कुल 6253 आवेदन प्राप्त हुए हैं। अर्थशास्त्र विषय में 60 सीटों पर इस वर्ष 502 फॉर्म प्राप्त किए गए हैं। प्रति सीट 8 से अधिक फॉर्म जमा किए गए हैं। इसी तरह राजनीति विज्ञान और मनोविज्ञान पाठ्यक्रमों में भी क्रमश: 6.03 फीसद और 5.96 फीसद ज्यादा आवेदन पत्र मिले हैं।  64.3 प्रतिशत के वृद्धि के साथ पर्शियन विभाग सबसे आगे रहा। 


20 अगस्त की पीएचडी प्रवेश परीक्षा अब 23 को
लखनऊ विश्वविद्यालय की सत्र 2020-21 की पीएचडी प्रवेश परीक्षा के कार्यक्रम में मुहर्रम की वजह से बदलाव किया गया है। 20 अगस्त के दिन होने वाली परीक्षा को 23 अगस्त को कराने का फैसला किया गया है। 21 अगस्त वाली परीक्षा अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार होगी। जानकारी के अनुसार पीएचडी प्रवेश परीक्षा के लिए लखनऊ विश्वविद्यालय मुख्य कैम्प में दो परीक्षा केन्द्र बनाए गए हैं।