Sunday, April 11, 2021

CORONA VIRUS EFFECT ::: जिन जिलों में 100 से अधिक मिलेंगे कोरोना केस वहां लगेगा नाइट कर्फ्यू, जानिए सीएम योगी ने क्या कहा

CORONA VIRUS EFFECT :::  जिन जिलों में 100 से अधिक मिलेंगे कोरोना केस वहां लगेगा नाइट कर्फ्यू, जानिए सीएम योगी ने क्या कहा




मुख्‍यमंत्री योगी ने कहा कि जिन जिलों में रोजाना 100 से अधिक कोरोना के केस मिल रहे हैं या फिर जहां पर कुल एक्टिव केस की संख्या 500 से अधिक है, वहां रात्रि नौ बजे से सुबह 6 बजे तक कोरोना कर्फ्यू लगाया जाए। कंटेमेंट जोन की व्यवस्था को सख्ती से लागू किया जाए। सभी जनपदों में पीपीई किट, पल्स ऑक्सीमीटर, इंफ्रारेड थरमामीटर, सैनिटाइजर, एंटीजन किट समेत सभी आवश्यक लॉजिस्टिक की पर्याप्त व्यवस्था की जाए। किसी भी जनपद से लॉजिस्टिक के अभाव की शिकायत नहीं आनी चाहिए। प्रदेश में एचएफएनसी और वेंटिलेटर की पर्याप्त उपलब्धता है। इसके बाद भी आवश्‍यकता पड़ने पर अतिरिक्‍त प्रबंध किए जाएं।

सीएम योगी ने महात्मा ज्योतिबा फुले की जयंती 11 अप्रैल और डॉ. भीमराव अंबेडकर की जयंती 14 अप्रैल तक पूरे प्रदेश में आयोजित किए जा रहे ‘विशेष टीका उत्सव’ के दौरान सभी जिलों में वैक्सीन की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। वैक्सीन की वेस्टेज को एक प्रतिशत तक सीमित रखा जाए। बैठक में अवगत कराया गया कि ‘विशेष टीका उत्सव’ के लिए सभी जिलों में वैक्सीन उपलब्ध करा दी गई है।

सीएम योगी ने कोविड संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित जिलों लखनऊ, कानपुर, प्रयागराज और वाराणसी में टेलीमेडिसिन सुविधा शुरू करने को कहा है। उन्होंने कानपुर के रामा मेडिकल कॉलेज को डेडिकेटेड कोविड अस्पताल के रूप में चलाने का निर्देश भी अफसरों को दिया है। यह भी कहा कि प्रदेश में रोज हो रही कोविड जांचों में कम से कम एक लाख आरटीपीसीआर जांच की जाएं। 

धर्मस्थलों में पांच से अधिक लोगों को एक साथ प्रवेश नहीं

इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड-19 के बढ़ते खतरे के मद्देनजर राजधानी लखनऊ में पुलिस आयुक्त से कहा कि धर्मस्थलों में पांच से अधिक लोगों को एक साथ प्रवेश की अनुमति न दी जाए। बाजारों में व्यापारियों से संवाद बनाकर उनका सहयोग लेते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराया जाए। कंटेनमेन्ट जोन में आवागमन को प्रतिबंधित किया जाए। मास्क न लगाने वालों पर सख्ती की जाए। एक संक्रमित मरीज से 25 मीटर के दायरे और एक से अधिक संक्रमित मरीजों की स्थिति में 50 मीटर के दायरे को कंटेनमेन्ट जोन बनाया जाए। कंटेनमेंट जोन में पीपीई किट का प्रयोग अनिवार्य रूप से किया जाए।