Sunday, March 28, 2021

UP POLICE DAROGA ::: यूपी पुलिस को मिले 63 नए दरोगा , मुरादाबाद में आयोजित की गयी पासिंग आउट परेड

UP POLICE DAROGA ::: यूपी पुलिस को मिले 63  नए दरोगा , मुरादाबाद में आयोजित की गयी पासिंग आउट परेड 



 

यूपी पुलिस को शनिवार को मुरादाबाद से 63 नए दरोगा मिल गए। शनिवार को एक साल के प्रशिक्षण के बाद पीटीसी क्वार्टर गार्ड में इनकी पासिंग आउट परेड हुई। पीटीसी प्राचार्य डीजी ब्रृजराज मीणा ने परेड की सलामी ली ओर उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले कैडेट्स को पुरस्कृत किया। डीजी ने सर्वांग सर्वोत्तम कैडेट चुने गए अलीगढ़ के मयंक प्रताप सिंह को तलवार देकर सम्मानित किया। सीतापुर के सिधौली के रहने वाले कैडेट संदीप कुमार सिंह को इनडोर टॉपर होने का खिताब मिला।


यूपी नागरिक पुलिस दरोगा भर्ती-2011 के तहत बड़ी संख्या में दरोगा पद के लिए अभ्यर्थियों का चयन हुआ था। लेकिन बाद में यह भर्ती प्रक्रिया अटक गई थी। मामला कोर्ट में चला गया था। लंबी कोर्ट कचहरी के बाद आखिरकार 2019 में कोर्ट ने चयनित अभ्यर्थिकयों को नियुक्ति देने का आदेश दिया। इसके बाद 16 मार्च 2020 को पुलिस मुख्यालय ने 112 अभ्यर्थियों को दरोगा के प्रशिक्षण के लिए मुरादाबाद पीटीसी में भेजा। इनमें से 63 ने समय पर आमद करा दी। कोरोना संक्रमण के खतरे के चलते लॉकडाउन के कारण 39 कैडेट्स का प्रशिक्षण बाद में शुरू हुआ। पीटीसी में 63 प्रशिक्षुओं का करीब एक साल का इनडोर व आउटडोर प्रशिक्षण पूरा हो गया। शनिवार को पीटीसी मैदान में प्रशिक्षण पूरा होने के बाद पासिंग आउट परेड का आयोजन किया गया। पीटीसी के प्राचार्य डीजी बृजराज मीणा ने परेड की सलामी ली और दरोगाओं को कर्तव्यनिष्ठा की शपथ दिलाई। इस प्रक्षिण में आउटडोर में अलीगढ़ के मयंक प्रताप सिंह सर्वांग सर्वोत्तम रहे। उन्हें आउटडोर का भी टॉपर घोषित किया गया। सीतापुर के संदीप कुमार सिंह इनडोर टॉपर रहे। पुरस्कार वितरण से पहले सीओ रामअवतार ने प्रशिक्षण का विवरण प्रस्तुत किया। आईजी शिवकुमार समेत पीटीसी के अन्य अधिकारी मौजूद रहे। शनिवार को प्रशिक्षण पूरा होने के बाद पासिंग आउट परेड का आयोजन पीटीसी क्वार्टर गार्ड कैंपस में हुआ। डीजी बृजराज मीणा ने बतौर मुख्य अतिथि परेड की सलामी ली। उन्होंने सभी 63 दरोगाओं को दायित्व निर्वहन और कर्तव्यनिष्ठा की शपथ दिलाई। बाद में इनडोर और आउटडोर के टॉपर अभ्यर्थी संदीप कुमार सिंह और मयंक प्रताप सिंह को मेडल देकर सम्मानित किया गया। अलीगढ़ के जट्टारी थाना क्षेत्र के गांव उसरह निवासी मयंक प्रताप सिंह को सर्वांग सर्वोत्तम चुना गया। इससे पहले प्रशिक्षण प्रभारी सीओ रामअवतार ने एक साल के प्रशिक्षण का विवरण प्रस्तुत किया। मौके पर पीटीसी के आइजी शिवशंकर सिंह समेत अन्य पुलिस अधिकारी व प्रशिक्षक मौजूद रहे।


डीजी बोले सभी 63 लोगों के लिए गौरव का पल

पासिंग आउट परेड के मुख्य अतिथि डीजी बृजराज मीणा ने प्रशिक्षण पूर्व कर चुके दरोगाओं को संबोधित करते हुए उनका मनोबल बढ़ाया। कहा कि यह आप सभी के लिए गौरव का पल है कि आप एक ही नेतृत्व में चलने वाले विश्व के सबसे बड़े पुलिस बल का हिस्सा बनने जा रहे हैं। कहा कि आप सभी से अपेक्षा है कि श्रेष्ट और भ्रष्टाचार मुक्त समाज के निर्माण के लिए आप लोग काम करेंगे। अपराध पर अंकुश लगाएंगे। डीजी ने सभी के उज्ज्वल भविष्य की कामना की।


एक साल के प्रशिक्षण में 12 विषयों के हर पहलू पर जोर

दारोगा के एक वर्षीय प्रशिक्षण के दौरान इनडोर और आउटडोर विषयों का गहनता से अध्ययन कराया गया। इंडोर प्रशिक्षण में आधुनिक भारत में पुलिस, पुलिस संगठन व प्रशासन, भारतीय दंड संहिता, दंड प्रक्रिया संहिता, भारतीय साक्ष्य अधिनियम, विवेचना, थाना प्रबंधन, अपराध शास्त्र, कंप्यूटर प्रशिक्षण, विधि विज्ञान समेत 12 विषयों की जानकारी दी गई। जबकि वाह्य विषयों में शारीरिक प्रशिक्षण, पदाति प्रशिक्षण, शस्त्र प्रशिक्षण, फील्ड क्राफ्ट, यूएसी, योगासन, विस्फोटकों का ज्ञान, ड्राइविंग, तैराकी व घुड़सवारी सिखाई गई। वार्षिक परीक्षा में सभी 63 प्रशिक्षु सफल रहे।


सर्वांग सर्वोत्मम मयंक को अभियन का है शौक

पीटीसी में शनिवार को हुए पासिंग आउट परेड में अलीगढ़ के जट्टारी थाना क्षेत्र के गांव उसरह निवासी मयंक प्रताप सिंह को सर्वांग सर्वोत्तम कैडेट घोषित किया गया। उन्हें इनडोर और आउटडोर में मिलाकर 2500 में से 1975 अंक मिले हैं। मयंक ने बताया कि 2011 में चयन होने के बाद भी नियुक्ति न मिलने के कारण काफी परेशान हुए। इस दौरान एक राष्ट्रीय न्यूज चैनल में पोस्ट प्रोडक्शन मैनेजर के रूप में काम किया। शादी में भी लेटलतीफी हुई। एक साल पहले रुचि के साथ उन्होंने विवाह किया। मयंक प्रताप ने कहा कि उन्हें अभिनय और मॉडलिंग का भी शौक है। कई नाटकों में राष्ट्रीय स्तर पर अभिनय कर चुके हैं। कुछ दिन मॉडलिंग भी किए हैं। मयंक ने कहा कि अब समाज के हर पीड़ित और जरूरत मंद को न्याय दिलाना ही उनकी प्राथमिता रहेगी। ऐसा काम करेंगे कि समाज के निचले और वंचित तबके को न्याय मिल सके।


सीतापुर के संदीप सिंह बने इनडोर टॉपर

एक वर्षीय प्रशिक्षण के बाद कराई गई परीक्षाओं में सर्वाधिक अंक पाकर सीतापुर के सिधौली कस्बा निवासी संदीप कुमार सिंह इनडोर टॉपर बने हैं। संदीप को इनडोर में 1500 में से 1274 अंक मिले हैं। संदीप के पिता किसानी के साथ ही व्यापार करते हैं। संदीप खुद चयन न हो पाने के कारण रियल स्टेट का बिजनेश कर रहे थे। नौकरी न लगने के कारण ही अभी तक विवाह भी नहीं कर पाए। संदीप सिह दो भाइयों में छोटे हैं। उनके बड़े भाई राजीव सिंह है। अभी संयुक्त परिवार है इसलिए संदीप सिह की सफलता से पूरे परिवार में खुशी का माहौल है।


👉Download Govt Jobs UP Android App