Tuesday, March 16, 2021

लोहिया संस्थानों में 2017 की भर्ती का विज्ञापन रद्द , युवाओ को लगा झटका

लोहिया संस्थानों  में  2017 की भर्ती का विज्ञापन रद्द , युवाओ को लगा झटका 





डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान ने तीन साल पुराना भर्ती का विज्ञापन रद्द कर दिया है। संस्थान ने तीन साल पहले विभिन्न पदों के लिए विज्ञापन निकाला था। इसके लिए 21 हजार से ज्यादा युवाओं ने आवेदन किया है। विज्ञापन रद्द होने से बेरोजगार युवाओं को तगड़ा झटका लगा है। संस्थान प्रशासन ने विज्ञापन रद्द करने के बावजूद बेरोजगारों से जमा कराए गए शुल्क की वापसी पर अभी कोई फैसला नहीं लिया है।

लोहिया संस्थान ने वर्ष 2017 में 456 गैर शैक्षणिक पदों के लिए विज्ञापन निकाला था। इनमें पैरामेडिकल, टेक्नीशियन, कम्प्यूटर ऑपरेशन, सोशल वर्कर, रिकॉर्ड ऑफिसर समेत अन्य पद थे। इनमें करीब 21 हजार बेरोजगारों ने आवेदन जमा किया था। इसके बाद सरकार बदल गई और भर्ती प्रक्रिया रोक दी गई। तबसे बेरोजगार संस्थान के चक्कर काट रहे थे। उन्हें सही जवाब देने वाला कोई नहीं था। बेरोजगारों का कहना है कि बड़ी संख्या में आवेदकों की उम्र निकल गई। अब संस्थान प्रशासन ने भर्ती रद्द कर दी है। संस्थान के निदेशक डॉ. एके सिंह का कहना है कि भर्ती की प्रक्रिया काफी पुरानी हो चुकी थी। इसलिए रद्द करना पड़ा। काफी लोगों का अनुभव बदल गया होगा। अब नए सिरे से ऑनलाइन विज्ञापन निकाला जाएगा। उसी आधार पर भर्ती होगी। वहीं बेरोजगारों से जमा कराई गई रकम वापसी के सवाल पर उन्होंने कहा कि अभी इस पर कोई फैसला नहीं हुआ है। गवर्निंग बॉडी में मामला रखा जाएगा। उसके बाद ही कोई फैसला होगा।

आउटसोर्सिंग पर इलाज की व्यवस्था
लोहिया संस्थान में इलाज की व्यवस्था आउटसोर्सिंग पर तैनात कर्मचारियों के भरोसे चल रही है। यहां टेक्नीशियन से लेकर वार्ड में नर्स तक आउटसोर्सिंग से तैनात हैं। अब कर्मचारियों के साथ ही डॉक्टरों को भी संविदा पर भर्ती करने का फैसला किया गया है। डॉक्टर के 32 पदों के लिए विज्ञापन जारी किया है। 20 मार्च तक आवेदन की आखिरी तारीख रखी गई है। हालांकि संविदा के आधार पर डॉक्टरों को भर्ती करने की प्रक्रिया का संस्थान के भीतर काफी विरोध चल रहा है।



 

👉Download Govt Jobs UP Android App