Saturday, February 20, 2021

वीकली टॉप-10 करेंट अफेयर्स इवेंट्स : 15 फरवरी से 20 फरवरी 2021, क्लिक करे और पढ़े

वीकली टॉप-10 करेंट अफेयर्स इवेंट्स : 15 फरवरी से 20 फरवरी 2021, क्लिक करे और पढ़े 





 1.क्रिस मौरिस ने रचा इतिहास, IPL में बिकने वाले सबसे महंगे खिलाड़ी बने

क्रिस मौरिस को इस बार राजस्थान रॉयल्स ने 16 करोड़ 25 लाख में खरीदा. क्रिस मौरिस पिछले सीजन में आरसीबी का हिस्सा थे, लेकिन उनके खराब प्रदर्शन की वजह से उन्हें इस टीम ने रिलीज कर दिया था. आरसीबी ने पिछले सीजन में मौरिस को 10 करोड़ में खरीदा था. क्रिस मौरिस शानदार ऑलराउंडर हैं.


क्रिस मौरिस ने आईपीएल में अबतक 70 मैच खेले हैं. इसमें 23.95 की औसत से 551 रन बनाए हैं. जबकि गेंदबाजी में मौरिस ने इसी दौरान 23.98 की औसत से 80 विकेट लिए हैं. गेंदबाजी में उनका प्रदर्शन 23 रन देकर 4 विकेट रहा है. वहीं उनकी इकोनॉमी भी 7.81 की रही है.


2.नासा ने रचा इतिहास, मंगल की सतह पर उतरा Perseverance रोवर

नासा के इस ऐतिहासिक मिशन को लीड करने वालों में भारतीय मूल की वैज्ञानिक डॉक्टर स्वाति मोहन भी शामिल हैं. स्वाति मोहन ने ही रोवर के लैंडिंग सिस्टम को विकसित किया है. डॉ. स्वाति मोहन एक भारतीय-अमेरिकी वैज्ञानिक हैं. वे एक वर्ष की आयु में ही अमेरिका चली गयी थी.


पर्सिवरेंस मार्स रोवर 1000 किलोग्राम वजनी है. जबकि, इंजीन्यूटी हेलिकॉप्टर 2 किलोग्राम वजन का है. मार्स रोवर परमाणु ऊर्जा से चलेगा. यानी पहली बार किसी रोवर में प्लूटोनियम को ईंधन के तौर पर उपयोग किया जा रहा है. यह रोवर मंगल ग्रह पर 10 साल तक काम करेगा.


3.रूस और ईरान के दो दिवसीय नौसैनिक अभ्यास में शामिल होगा भारत

नौसेना का यह अभ्यास हिंद महासागर के उत्तरी भाग में हो रहा है. ईरानी सेना और इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स - IRGC के नौसेना डिवीजनों के बलों और जहाजों ने इस ड्रिल में भाग लिया, जो 16 फरवरी, 2021 को रूसी सेना के कई जहाजों के साथ शुरू हुई थी.


यह ड्रिल 17,000 वर्ग किमी के क्षेत्र को कवर करेगी. इस ड्रिल में आगे हवाई लक्ष्य, समुद्र में शूटिंग, अपहृत जहाजों को मुक्त करने के साथ-साथ बचाव और खोज और एंटी-पाइरेसी ऑपरेशन शामिल होंगे. इस ड्रिल के प्रवक्ता, घोलमरेजा तहनी ने यह बताया कि, भारतीय नौसेना भी जहाजों के एक चुनिंदा समूह के साथ इस नौसैनिक अभ्यास में शामिल हो गई है.


4.प्रधानमंत्री मोदी ने असम में 'महाबाहु-ब्रह्मपुत्र' का किया उद्घाटन

प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) के मुताबिक, इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य भारत के पूर्वी हिस्सों में निर्बाध कनेक्टिविटी प्रदान करना है. साथ ही ब्रह्मपुत्र और बराक नदी के किनारे रहने वालों के लिए विभिन्न विकास के काम को अंजाम देना है. असम में कनेक्टिविटी के उद्देश्य से महाबाहु-ब्रह्मपुत्र योजना शुरू की जा रही है.


महाबाहु-ब्रह्मपुत्र योजना शुरू होने के बाद असम में कनेक्टविटी को बढ़ावा मिलेगा और इसके अंतर्गत कई छोटी-बड़ी परियोजनाओं को शामिल किया गया है. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि ब्रह्मपुत्र नदी पर एक पुल की मांग 10 साल पुराना है.


5.भीमबेटका में मिला दुनिया के सबसे पुराने जानवर का जीवाश्म, जानें इसके बारे में सबकुछ

भीमबेटका के ऑडिटोरियम गुफा की छत पर मिले जानवर का जीवाश्म लगभग 57 करोड़ साल पुराना है. इसका नाम डिकिनसोनिया है और देश में पहली बार इस जानवर का जीवाश्म मिला है. यह जीवाश्‍म भीमबेटका में शोधकर्ताओं को संयोग से मिला.


भीमबेटका में मिला यह जीवाश्म पृथ्वी के सबसे प्राचीन जानवर डिकिनसोनिया का होने की पुष्टि दक्षिण आस्ट्रेलिया में इसी जानवर के 5410 लाख वर्ष पुराने जीवाश्म से मिलान करने पर हुई है. इसलिए यह कहा जा सकता है कि भीमबेटका में मौजूद डिकिनसोनिया का जीवाश्म विश्व का सबसे पुराना है.


6.भारतीय नौसेना ने हासिल की तीसरी स्कॉर्पीन पनडुब्बी, INS करंज के तौर पर होगी तैनात

INS करंज की डिलीवरी के साथ, भारत पनडुब्बी-निर्माण करने वाले देश के तौर पर अपनी स्थिति को मजबूत करने में सक्षम हो गया है. भारतीय नौसेना की कुल 6 पनडुब्बियों का निर्माण प्रोजेक्ट 75 के तहत किया जा रहा है. 75 नंबर अद्वितीय पहचानकर्ता को संदर्भित करता है जिसे पनडुब्बियों के निर्माण के लिए यह प्रोजेक्ट प्रोग्राम सौंपा गया था.


पांचवीं पनडुब्बी जिसे 12 नवंबर, 2020 को लॉन्च किया गया था, ने भी अपना समुद्री परीक्षण शुरू कर दिया है. इसके अलावा, छठी पनडुब्बी अभी आउटफिटिंग के उन्नत चरण में है. दो SSK पनडुब्बियां, जो वर्ष, 1992 और वर्ष, 1994 में MDL द्वारा बनाई गई थीं, 25 से अधिक वर्षों के बाद और आज भी सेवा में हैं.


7.नागोजी ओकोंजो-इवेला ने रचा इतिहास, बनी डब्ल्यूटीओ की अगली महानिदेशक

नाइजीरिया के पूर्व वित्त मंत्री ओकोंजो-इवेला, रॉबर्टो अजेवेदो की जगह लेंगी, जिन्होंने अगस्त 2020 में पद छोड़ दिया. उन्हें अमेरिकी सरकार का भी समर्थन मिला हुआ है. खास बात यह है कि नागोजी को अमेरिकी सरकार ( US Government) का भी समर्थन मिल गया है. अबतक उन्हें दक्षिण कोरिया की यू म्योंग ही से चुनौती मिल रही थी.


नागोज़ी ओकोंजो-इवेला अपने आप में 25 वर्षों से विश्व बैंक और नाइजीरियाई वित्त मंत्री के रूप में दो कार्यकाल से अर्थशास्त्र और अंतरराष्ट्रीय कूटनीति में ज्ञान का खजाना है. वे डब्ल्यूटीओ का नेतृत्व बेहतरीन तरीके से करेंगी. डॉ नागोजी ने बाइडन प्रशासन को समर्थन के लिए शुक्रिया कहा है.


8.भारत इस साल अस्त्र मार्क-2 मिसाइल का परीक्षण करेगा, जानें इसकी खासियत

लंबी दूरी की मारक क्षमता से लैस अस्त्र मार्क-2 मिसाइल (Astra Mark 2 Missile) विजिबल रेंज से बाहर भी दुश्मनों के विमान को निशाना बनाने में सक्षम होगी. भारत अस्‍त्र मार्क-2 मिसाइल से अपने लड़ाकू विमानों की क्षमता को हवाई युद्ध (हवा से हवा) में अधिक घातक बनाएगा.


अस्‍त्र मार्क-2 मिसाइल ध्वनि की गति से चार गुना तेजी से उड़ान भरती है. यह मिसाइल सभी मौसम, दिन और रात हर समय मार करने में समर्थ है. मौजूदा समय में इसकी रेंज लगभग 100 किलोमीटर की है. अस्त्र मिसाइल को रक्षा अनुसंधान व विकास संगठन (DRDO) ने तैयार किया है.


9.भारत का पहला CNG tractor हुआ लॉन्च, जानें इसके बारे में सबकुछ

सीएनजी ट्रैक्टर से 80 फीसदी वायु प्रदूषण कम होगा, वहीं नए उत्सर्जन मानक के तहत उनको चलाने पर प्रतिबंध नहीं लगेगा और 15 साल तक किसान ऐसे ट्रैक्टरों को चला सकेंगे. यह ट्रैक्‍टर रॉमैट टेक्‍नो सॉल्‍यूशन और टोमासेटो एकाइल इंडिया ने संयुक्‍त रूप से विकसित किया है.


इस ट्रैक्टर का इधन भी न केवल आर्थिक रूप से बचत करेगा बल्कि पर्यावरण को बचाने में भी मदद करेगा. सरकार का कहना है कि फसलों के वेस्ट (अवशेष) को किसान जलाता था. अब उसे बेचकर वह अपनी आमदनी बढ़ा सकेगा. इस तरह सीएनजी ट्रैक्टर कृषि क्षेत्र में बड़ा बदलाव ला सकता है.


10.प्रधानमंत्री मोदी ने आर्मी को सौंपा अर्जुन टैंक M-1A, जानें विस्तार से

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) की युद्धक वाहन अनुसंधान एवं विकास इकाई (CVRDE) ने अर्जुन टैंक मार्क 1A को बनाया है. सेना को अर्जुन टैंक सौंपने के साथ ही देश ने आत्मनिर्भर भारत की तरफ एक और कदम बढ़ा दिया है. यह टैंक भारत में ही डिजाइन हुए हैं और बनाए गए हैं.


यह टैंक पूरी तरह भारत में बनाया गया है. ये 118 टैंक सेना के पहले बैच में शामिल होंगे. अर्जुन टैंक के सेना में शामिल किए जाने के बाद एक और रेजिमेंट बनाया जाएगा. इससे पहले भी 124 टैंक सेना में शामिल किए जाने के बाद रेजिमेंट बनाई गई थी.


👉Download Govt Jobs UP Android App