Saturday, January 30, 2021

UPPSC ACF/ RFO मेंस परीक्षा 13 से , आयोग ने जारी किया कार्यक्रम

UPPSC ACF/ RFO मेंस परीक्षा  13 से , आयोग ने जारी किया कार्यक्रम 



सहायक वन संरक्षक (एसीएफ)/क्षेत्रीय वन अधिकारी (आरएफओ)-2020 की मुख्य परीक्षा 13 से 26 जनवरी तक आयोजित की जाएगी। उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) ने शुक्रवार को परीक्षा का कार्यक्रम जारी कर दिया, जो आयोग की वेबसाइट पर भी उपलब्ध है। 



एसीएफ/आरएफओ के 12 पदों पर भर्ती के लिए एसीएफ/आरएफओ-2020 की मुख्य परीक्षा परीक्षा प्रयागराज में दो सत्रों सुबह 9.30 से दोपहर 12.30 बजे और दोपहर दो से शाम पांच बजे तक आयोजित की जाएगी। केवल सामान्य अध्ययन प्रथम प्रश्रपत्र की परीक्षा सुबह 9.30 से 11.30 बजे और द्वितीय प्रश्रपत्र की परीक्षा दोपहर 2.30 से शाम 4.50 बजे तक होगी, जो वस्तुनिष्ठ प्रकार की होगी। आयोग ने प्रारंभिक परीक्षा 11 अक्तूबर को आयोजित की थी, जिसमें 180 अभ्यर्थियों को मुख्य परीक्षा के लिए सफल घोषित किया गया था। 



आयोग के सचिव जगदीश के अनुसार 13 फरवरी को सामान्य अध्ययन, 14 को सामान्य हिंदी एवं निबंध, 15 वनस्पति विज्ञान, 17 को रसायन विज्ञान/रसायन इंजीनियरिंग, 18 को पर्यावरण विज्ञान, 19 को वानिकी, 20 को कृषि/कृषि इंजीनियरिंग/उद्यान विज्ञापन, 21 को भू विज्ञान, 22 को भौतिकी, 23 को पशुपालन एवं  चिकित्सा विज्ञान, 24 को प्राणि विज्ञान, 25 को गणित/सांख्यिकी और 26 फरवरी को सिविल इंजीनियरिंग/यांत्रिक इंजीनियरिंग की परीक्षा होगी। सामान्य हिंदी एवं निबंध की परीक्षा केवल पहले सत्र में होगी। बाकी सभी परीक्षाएं दो सत्रों में आयोजित की जाएंगी।

अभ्यर्थन वापसी के लिए मांगे गए प्रार्थना पत्र

एसीएफ/आरएफओ-2019 की मुख्य परीक्षा का परिणाम शीघ्र ही जारी किया जाना है। मुख्य परीक्षा में कई ऐसे अभ्यर्थी भी शामिल हुए थे, जिनका चयन एसीएफ/आरएफओ-2017 अथवा 2018 में हो चुका है या पीसीएस में उनका चयन हो चुका है। अगर ऐसे अभ्यर्थी अपना अभ्यर्थन वापस लेते हैं तो मुख्य परीक्षा में शामिल हुए अन्य अभ्यर्थियों के लिए चयन के अवसर बढ़ जाएंगे। इसी को ध्यान में रखने हुए आयोग के सचिव जगदीश की ओर से विज्ञप्ति जारी कर कहा गया कि पूर्व में चयनित हो चुके अभ्यर्थी अगर एसीएफ/आरएफओ-2019 से अपना अभ्यर्थन वापस लेना चाहते हैं तो अपनी रजिस्टर्ड ईमेल आईडी से आयोग की ईमेल आईडी Ònotintforacf19@gmail.com पर चार फरवरी तक प्रार्थना पत्र भेज सकते हैं। प्रार्थना पत्र में अभ्यर्थन निरस्तीकरण के स्पष्ट कारणों का उल्लेख किया जाना आवश्यक है।


👉Download Govt Jobs UP Android App