Thursday, January 14, 2021

टाइपिंग में शून्य व् माइनस अंक पाने वाले अभ्यर्थियों के चयन पर कोर्ट ने माँगा सरकार से जवाब , क्लिक करे और पढ़े पूरी पोस्ट

टाइपिंग में शून्य व् माइनस अंक पाने वाले अभ्यर्थियों के चयन पर कोर्ट ने माँगा सरकार से जवाब , क्लिक करे और पढ़े पूरी पोस्ट 


इलाहाबाद हाईकोर्ट ने टाइपिंग टेस्ट में शून्य व माइनस अंक पाने वालों के चयन को उचित ठहराने पर  महानिबंधक कार्यालय से जवाब मांगा है। यह आदेश न्यायमूर्ति अश्विनी कुमार मिश्र ने विनीत कुमार व चार अन्य की याचिका पर दिया है। कोर्ट ने अन्य अभ्यर्थियों को भी याचिका में पक्षकार बनने की छूट दी है।
याचिका में टाइपिंग टेस्ट में माइनस व शून्य अंक पाने वालों के चयन के औचित्य पर सवाल उठाया गया है। कहा गया है कि इनका किस कार्य के लिए चयन किया गया है और टाइपिंग टेस्ट में अधिक अंक पाने के बावजूद याचियों को चयनित नहीं किया गया है। कोर्ट ने पूछा है कि जिन्होंने टाइपिंग टेस्ट में माइनस अंक पाए हैं, उन्हें किसलिए और क्यों चयनित किया गया है। कोर्ट ने सक्षम अधिकारी को अगली सुनवाई के समय रिकार्ड के साथ उपस्थित रहने का भी आदेश दिया है।



 

👉Download Govt Jobs UP Android App