Saturday, January 23, 2021

उम्र सीमा घटाई तो कहां जाएंगे 30 से ऊपर वाले, प्रतियोगी छात्रों ने आयु सीमा घटाए जाने के प्रस्ताव पर उठाए सवाल

उम्र सीमा घटाई तो कहां जाएंगे 30 से ऊपर वाले, प्रतियोगी छात्रों ने आयु सीमा घटाए जाने के प्रस्ताव पर उठाए सवाल

प्रयागराज : उत्तर प्रदेश की सरकारी सेवाओं में भर्ती की अधिकतम आयु सीमा 40 से घटाकर 30 वर्ष किए जाने के प्रस्ताव का प्रतियोगी छात्रों ने विरोध किया है। उन्होंने सवाल उठाए हैं कि अगर एक झटके में अधिकतम आयु सीमा 10 वर्ष घटा दी गई तो 30 साल की उम्र पार कर चुके लाखों युवा पूरी तरह से बेरोजगार हो जाएंगे। प्रतियोगियों का 1. कहना है कि इस बारे में किसी भी तरह का निर्णय लेने से पहले सरकार को वैकल्पिक रोजगार की व्यवस्था करनी चाहिए।

प्रतियोगी छात्रा सौम्या नारायण श्रीवास्तव प्रस्ताव से संतुष्ट नहीं हैं। उनका कहना है कि पीसीएस में विशेष योग्यता वाले पदों एवं अन्य प्रकार की भर्तियों में स्नातक के साथ अन्य प्रकार की योग्यताएं भी मांगी जाती हैं। अभ्यर्थी अमूमन 23 से 24 वर्ष की आयु तक पढ़ाई ही करते रहते हैं। इसके बाद भर्ती परीक्षाओं की तैयारी करते हैं, जिसमें दो से तीन साल का वक्त लग जाता है। अगर आयु सीमा घटाकर 30 वर्ष कर दी गई तो निश्चित रूप से ज्यादातर अभ्यर्थियों के लिए रोजगार के अवसर घट जाएंगे। प्रतियोगी छात्र संघर्ष समिति के अध्यक्ष अवनीश पांडेय और मीडिया प्रभारी प्रशांत पांडेय का कहना है कि ग्रामीण पृष्ठभूमि से जुड़े विद्यार्थी अपनी प्रारंभिक शिक्षा देर से शुरू करते हैं। ग्रामीण युवा 19 से 20 वर्ष की आयु में इंटर कर पाते हैं। इसके बाद स्नातक और परास्नातक की पढ़ाई करनी होती है। 25 से 26 साल में पढ़ाई पूरी होती है। फिर भर्ती परीक्षाओं की तैयारी करते हैं। बदलाव हुआ तो तैयारी के दौरान ही परीक्षा में शामिल होने के लिए अधिकतम आयु सीमा पूरी हो जाएगी। पीसीएस परीक्षा इसका उदाहरण है, जहां हर साल चयनितों में आधे से अधिक संख्या 30 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के अभ्यर्थियों की होती है।