Monday, January 4, 2021

वर्ष 2021 :: मिशन रोजगार को धार, युवाओं के लिए प्रदेश में नौकरियों की बहार , सरकारी क्षेत्र में ही एक लाख से ज्यादा भर्तियों की मंशा ,रोजगार-स्वरोजगार, कौशल विकास और अप्रेंटिसशिप से युवाओं के सपने होंगे साकार , क्लिक करे और पढ़े पूरी पोस्ट

 वर्ष  2021 :: मिशन रोजगार को धार, युवाओं के लिए प्रदेश में नौकरियों की बहार , सरकारी क्षेत्र में ही एक लाख से ज्यादा भर्तियों की मंशा ,रोजगार-स्वरोजगार, कौशल विकास और अप्रेंटिसशिप से युवाओं के सपने होंगे साकार , क्लिक करे और पढ़े पूरी पोस्ट 




रोजगार और स्वरोजगार के स्वप्न देख रहे प्रदेश के लाखों युवाओं और बेरोजगारों के लिए नया साल इन सपनों के साकार होने की उम्मीद लेकर आया है। रोजगार, स्वरोजगार, कौशल विकास और अप्रेंटिसशिप के जरिये लोगों को काम दिलाने के लिए पिछले साल चलाया गया मिशन रोजगार नए वर्ष में सही मायने में जमीन पर उतरने के साथ रफ्तार पकड़ेगा। इस अभियान के जरिये मार्च 2021 तक प्रदेश के 50 लाख युवाओं को रोजगार से जोड़ने का लक्ष्य है। विभिन्न भर्ती संस्थाएं भी एक लाख से ज्यादा युवाओं को सरकारी नौकरियां मुहैया कराने के लिए कमर कस रही हैं।


युवाओं को बेरोजगारी के दंश से मुक्ति दिलाने के लिए नए वर्ष में मिशन रोजगार पर खास फोकस होगा। इसके अंतर्गत रोजगार के लिए सभी विभागों में हेल्प डेस्क स्थापित की जाएंगी। बेरोजगार युवाओं को सेवायोजन की संभावनाओं व रिक्तियों की जानकारी देने के लिए सेवायोजन निदेशालय की ओर से कॉल सेंटर की स्थापना की जाएगी। इन कॉल सेंटर के माध्यम से नागरिकों व उपभोक्ताओं को उनकी आवश्यकता के अनुसार प्रशिक्षित तकनीशियन की सेवाएं उपलब्ध कराई जाएंगीं। सेवामित्र पोर्टल को व्यापक बनाते हुए सेवामित्र कॉरपोरेट के नाम से विकसित किया जाएगा।


उप्र कौशल विकास मिशन की ओर से नए साल में पांच लाख से अधिक परंपरागत शिल्पकारों/युवाओं को रीक्विजीशन ऑफ प्रायर लर्निंग और शॉर्ट टर्म ट्रेनिंग के तहत व्यावसायिक कौशल प्रशिक्षण दिया जाएगा। पिछले साल शुरू की गई सीएम युवा हब स्कीम के तहत युवाओं को उद्यमी बनाने के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म मुहैया कराया जाएगा। उप्र कौशल विकास मिशन इस स्कीम के लिए पोर्टल विकसित कर रहा है। विश्व बैंक पोषित संकल्प योजना के तहत आर्थिक व सामाजिक दृष्टि से पिछड़े और जनजातीय समुदायों के लाभार्थियों को कौशल विकास प्रशिक्षण देने के लिए विशेष परियोजनाएं संचालित की जाएंगी। सीएम एप्स (मुख्यमंत्री अप्रेंटिसशिप प्रमोशन स्कीम) को विस्तार देते हुए अधिक से अधिक प्रतिष्ठानों व युवाओं को इसमें शामिल कर लाभान्वित किया जाएगा। नए वर्ष में 16 राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों को सार्वजनिक व निजी क्षेत्र के सहयोग से पब्लिक प्राइवेट मोड पर संचालित किया जाएगा।

शिक्षा क्षेत्र में भी बंपर भर्तियां


बेसिक शिक्षा परिषद में ही 50 हजार से अधिक शिक्षकों की नियुक्ति होनी है। सुप्रीम कोर्ट ने शिक्षामित्रों को एक और भर्ती में मौका देने का आदेश दिया है। वहीं माध्यमिक शिक्षा में 20 हजार से अधिक पदों पर चयन होना तय है। यह संख्या और भी बढ़ सकती है। भर्तियां करने में उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग सबसे आगे है, नए साल में करीब आठ हजार से अधिक पदों पर चयन होना लगभग तय है। उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग भी नई के साथ पुरानी भर्तियां पूरी करेगा।

यूपीएसएसएससी की परीक्षा व पंजीकरण प्रणाली में होंगे बदलाव


नए साल में 40 हजार से 50 हजार युवाओं को समूह ‘ग’ की नौकरियां दिलाने के लिए उप्र अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (यूपीएसएसएससी) भी तैयारियों में जुटा है। भर्ती प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए यूपीएसएसएससी नए साल में लोक सेवा आयोग की तर्ज पर द्विस्तरीय परीक्षा प्रणाली अपनाने जा रहा है। अभ्यर्थियों की स्क्रीनिंग के लिए पहले प्रारंभिक परीक्षा कराई जाएगी। प्रारंभिक परीक्षा के आधार पर शार्टलिस्ट किए गए अभ्यर्थियों के लिए विभागीय जरूरतों और संबंधित सेवा नियमावलियों के अनुसार मुख्य परीक्षा कराई जाएगी। अभ्यर्थियों की सुविधा के लिए नए साल में यूपीएसएसएससी ‘केवाइसी’ (अभ्यर्थी को जानिए) प्रणाली भी शुरू करेगा। इसमें अभ्यर्थी को आयोग की वेबसाइट पर एकबार पंजीकरण कराना होगा। उसे हर परीक्षा के लिए अलग से पंजीकरण की जरूरत नहीं होगी। वह समय-समय पर अपने विवरण को अपडेट कर सकेगा।


👉Download Govt Jobs UP Android App