Friday, January 15, 2021

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स: 15 जनवरी 2021 , क्लिक करे और पढ़े

 टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स: 15 जनवरी 2021 , क्लिक करे और पढ़े 


DRDO ने बनाई भारत की पहली स्वदेशी मशीन पिस्टल ASMI, जानें इसके बारे में सबकुछ

यह पिस्टल पूरी तरह से भारत निर्मित है और इसे डीआरडीओ की तरफ से विकसित किया गया है. इस पिस्टल गन को बनाने में भारतीय सेना ने भी मदद की है. डीआरडीओ द्वारा जारी एक बयान में कहा गया कि मशीन पिस्टल 100 मीटर की दूरी से फायर कर सकती है.


यह हथियार 4 महीने के रेकॉर्ड समय में विकसित किया गया है. इसका ऊपरी रिसीवर एयरक्राफ्ट ग्रेड एलुमिनियम से और निचला रिसीवर कार्बन फाइबर से बना है. ट्रिगर सहित इसके विभिन्न भागों की डिजाइनिंग और प्रोटोटाइपिंग में 3डी प्रिटिंग प्रक्रिया का इस्तेमाल किया गया है.


Union Budget 2021: आजादी के बाद पहली बार पेपरलेस होगा बजट, जानें वजह

गौरतलब है कि अभी तक सांसदों और मीडिया आदि के लिए बजट की कॉपी छापी जाती थी. लेकिन पहली बार बजट पेपरलेस होगा. इस बार सांसदों को बजट की सॉफ्ट कॉपी दी जाएगी. गौरतलब है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक फरवरी को वित्त वर्ष 2021-22 का बजट पेश करेंगी.


इस बार बजट की सॉफ्ट कॉपी साझा की जाएगी. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, यूनियन बजट और इकोनॉमिक सर्वे के दस्तावेज दोनों ही नहीं छापे जाएंगे और सभी को सॉफ्ट कॉपी दी जाएगी. संसद के सभी सदस्यों को आम बजट की सॉफ्ट कॉपी मिलेगी.


भारतीय सेना दिवस 15 जनवरी को क्यों मनाया जाता है, जानें इसके बारे में सबकुछ

यह दिन हर साल इसी दिन को मनाया जाता है क्योंकि आज ही के दिन साल 1949 में फील्ड मार्शल केएम करियप्पा ने जनरल फ्रांसिस बुचर से भारतीय सेना की कमान ली थी. यह दिन सैन्य परेडों, सैन्य प्रदर्शनियों और अन्य आधिकारिक कार्यक्रमों के साथ नई दिल्ली व सभी सेना मुख्यालयों में मनाया जाता है.


फील्ड मार्शल केएम करियप्पा के सम्मान में प्रत्येक साल सेना दिवस मनाया जाता है. करियप्पा भारतीय सेना के पहले कमांडर-इन-चीफ थे जिन्होंने 15 जनवरी 1949 में सर फ्रैंसिस बुचर से प्रभार लिया था. यह मौका भारतीय सेना के लिए एक बहुत ही अहम था इसलिए भारत में प्रत्येक साल इस दिन को सेना दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया गया तथा तब से अब तक यह परंपरा चली आ रही है.


प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तीसरे चरण की शुरुआत

सरकार की कौशल प्रदान करने की इस प्रमुख योजना का तीसरा चरण देश के सभी राज्यों के 600 जिलों में शुरू होने जा रहा है. पीएमकेवीवाई 3.0 के तहत योजना की 2020-21 की अवधि के दौरान आठ लाख लोगों को प्रशिक्षण दिया जाएगा. इस पर 948.90 करोड़ रुपये खर्च होंगे.


प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना (पीएमकेवीवाई) भारत सरकार की एक योजना है. इस योजना के तहत 2020 तक एक करोड़ युवाओं को प्रशिक्षण देने का लक्ष्य रखा गया था. योजना का उद्देश्य ऐसे लोगों को रोजगार मुहैया कराना है जो कम पढ़े-लिखे हैं.

👉Download Govt Jobs UP Android App