Saturday, January 16, 2021

वीकली टॉप -10 करेंट अफेयर्स इवेंट्स : 11 जनवरी - 16 जनवरी 2021 , क्लिक करे और पढ़े

 वीकली टॉप -10 करेंट अफेयर्स इवेंट्स : 11 जनवरी - 16 जनवरी 2021  , क्लिक करे और पढ़े 




1.भारतीय सेना दिवस 15 जनवरी को क्यों मनाया जाता है, जानें इसके बारे में सबकुछ

यह दिन सैन्य परेडों, सैन्य प्रदर्शनियों और अन्य आधिकारिक कार्यक्रमों के साथ नई दिल्ली व सभी सेना मुख्यालयों में मनाया जाता है. इस दिन उन सभी बहादुर सेनानियों को सलामी दी जाती है जिन्होंने अपने देश और लोगों की सलामती हेतु अपना सर्वोच्च न्योछावर कर दिया होता है.


फील्ड मार्शल केएम करियप्पा के सम्मान में प्रत्येक साल सेना दिवस मनाया जाता है. करियप्पा भारतीय सेना के पहले कमांडर-इन-चीफ थे जिन्होंने 15 जनवरी 1949 में सर फ्रैंसिस बुचर से प्रभार लिया था. सेना दिवस के उपलक्ष्य में प्रत्येक साल दिल्ली छावनी के करियप्पा परेड ग्राउंड में परेड निकाली जाती है.


2.DRDO ने बनाई भारत की पहली स्वदेशी मशीन पिस्टल ASMI, जानें इसके बारे में सबकुछ

यह पिस्टल पूरी तरह से भारत निर्मित है और इसे डीआरडीओ की तरफ से विकसित किया गया है. इस पिस्टल गन को बनाने में भारतीय सेना ने भी मदद की है. डीआरडीओ द्वारा जारी एक बयान में कहा गया कि मशीन पिस्टल 100 मीटर की दूरी से फायर कर सकती है.

यह हथियार 4 महीने के रेकॉर्ड समय में विकसित किया गया है. इसका ऊपरी रिसीवर एयरक्राफ्ट ग्रेड एलुमिनियम से और निचला रिसीवर कार्बन फाइबर से बना है. ट्रिगर सहित इसके विभिन्न भागों की डिजाइनिंग और प्रोटोटाइपिंग में 3डी प्रिटिंग प्रक्रिया का इस्तेमाल किया गया है.


3.जलवायु परिवर्तन के कारण पृथ्वी के 1-2 प्रतिशत कीट-पतेंगे होंगे विलुप्त

डेविड वैगनर के अनुसार, जलवायु परिवर्तन के कारण अमेरिका में सूखे के मौसम ने तितलियों के खाने के लिए काफी कम दुधिया रस वाला एक जंगली पौधा/ मिल्क प्लांट छोड़ दिया है. इसके अलावा, अमेरिकी कृषि में परिवर्तन खरपतवार और फूलों को हटा देते हैं जो अमृत के लिए उन्हें चाहिए.


ये कीट-पतंगे दुनिया की खाद्य श्रृंखला के लिए महत्वपूर्ण हैं और कचरे से छुटकारा पाने में मदद करते हैं. वैगनर के अनुसार, ये कीट-पतंगे ऐसे कपड़े हैं जिनके द्वारा मां प्रकृति और जीवन रुपी पेड़ का निर्माण हुआ है. कृषि में, कीट पर्यावरण में पौधों के पारस्परिक परागण में मदद करते हैं.


4.अरुणाचल प्रदेश बन सकता है भारत का प्रमुख वैनेडियम उत्पादक

यह एक ऐसी उच्च-मूल्य की धातु है जिसका उपयोग स्टील और टाइटेनियम को मजबूत करने में किया जाता है. वैनेडियम के सबसे बड़े भंडार चीन में हैं, इसके बाद दक्षिण अफ्रीका और रूस हैं. भले ही भारत वैनेडियम का एक महत्वपूर्ण उपभोक्ता है, लेकिन अभी तक यह आवश्यक धातु का प्रमुख उत्पादक नहीं है.


अरुणाचल प्रदेश में पाया जाने वाला यह खनिज पदार्थ भूगर्भीय रूप से पत्थर के कोयले के वैनेडियम डिपोजिट के समान है जो चीन में पाया जाता है. यह उच्च वैनेडियम तत्त्व 16 प्रतिशत तक की निश्चित कार्बन तत्त्व के साथ ग्रेफाइट से जुड़ा हुआ है.


5.सुप्रीम कोर्ट का किसान आंदोलन पर बड़ा फैसला, तीनों कृषि कानूनों पर लगाई रोक

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने तीनों कृषि कानूनों पर रोक लगाते हुए किसानों के मुद्दे के समाधान के लिए कमिटी गठित करने का आदेश दिया है. चीफ जस्टिस की अगुवाई वाली बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कानूनों पर रोक लगाई, साथ ही एक कमेटी का गठन कर दिया है. जो कि सरकार और किसानों के बीच कानूनों पर जारी विवाद को समझेगी और सर्वोच्च अदालत को रिपोर्ट सौंपेगी.


दिल्ली की सीमा पर किसानों का जमावड़ा पिछले 50 दिनों से लगा हुआ है. अलग-अलग बॉर्डर पर हजारों की संख्या में किसान जिनमें बुजुर्ग, महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं, डटे हुए हैं. कृषि कानून की मुश्किलों को दूर करने के लिए सरकार और किसान संगठन कई राउंड की बैठक भी कर चुके थे, लेकिन सहमति नहीं बन सकी.


6.National Youth Day 2021: जानें क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय युवा दिवस

राष्ट्रीय युवा दिवस के रुप में स्वामी विवेकानंद के जन्म दिवस को मनाने के लिये वर्ष 1984 में भारतीय सरकार द्वारा घोषणा की गयी थी. इसे मनाने का मुख्य लक्ष्य भारत के युवाओं के बीच स्वामी विवेकानंद के आदर्शों और विचारों के महत्व को फैलाना है. इस मौके पर भारतीय युवाओं को प्रेरित करने के लिये छात्रों द्वारा स्वामी विवेकानंद के विचारों से संबंधित व्याख्यान और लेखन भी किया जाता है.


इस दिवस का उद्देश्य विवेकानंद की शिक्षाओं एवं आदर्शों को भारतीय युवाओं के लिए रोल मॉडल के रूप में पेश किया जाना है. इस दिन को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है ताकि देश के युवा स्वामी विवेकानंद के जीवन, कार्य शैली, चेतना और आदर्श से प्रेरणा ले सकें. स्वामी विवेकानन्द का जन्म 12 जनवरी 1863 को कोलकाता में हुआ था.


7.कोयला खदानों के संचालन हेतु सिंगल विंडो क्लीयरेंस सिस्टम की शुरुआत

गृह मंत्री अमित शाह ने अपने संबोधन में कहा कि कोयला क्षेत्र में पहले ये भाव होता था कि वो अपनी क्षमता के अनुसार काम नहीं कर पा रहा है. साल 2014 से पहले कोयला क्षेत्र में केवल घोटाले की बातें सुनाई देती थी, यही कारण था कि इस क्षेत्र में काम नहीं हो पाता था.


अमित शाह ने कहा कि केवल किसी एक क्षेत्र ही नहीं बल्कि हर क्षेत्र में आत्मनिर्भर होना जरूरी है, कोयला उनमें महत्वपूर्ण है. ऊर्जा की 72 प्रतिशत हिस्सेदारी कोयला क्षेत्र से ही है, हमें इसे बदलना होगा लेकिन कोयले का भंडार काफी अधिक है जिसका उपयोग करना जरूरी है.


8.वित्त वर्ष 2020-21 में भारत की जीडीपी में 7.7 प्रतिशत की गिरावट का अनुमान

एनएसओ के मुताबिक, वित्त वर्ष 2020-21 में स्थिर मूल्य (2011-12) पर वास्तविक जीडीपी या जीडीपी 134.40 लाख करोड़ रुपये रहने का अनुमान है. वहीं, 2019-20 में जीडीपी का शुरुआती अनुमान 145.66 लाख करोड़ रुपये रहा है. 2020-21 में वास्तविक जीडीपी में अनुमानत: 7.7 प्रतिशत की गिरावट आएगी.


हालांकि, दूसरी तिमाही में अर्थव्यवस्था का प्रदर्शन उम्मीद से बेहतर रहा और जीडीपी में गिरावट घटकर 7.5 प्रतिशत रह गई. रिपोर्ट में कहा गया है कि महामारी और लॉकडाउन के दौरान कृषि क्षेत्र का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा है. ऐसे में चालू वित्त वर्ष में कृषि क्षेत्र की वृद्धि दर 3.5 प्रतिशत रहने का अनुमान है.


9.Union Budget 2021: आजादी के बाद पहली बार पेपरलेस होगा बजट, जानें वजह

गौरतलब है कि अभी तक सांसदों और मीडिया आदि के लिए बजट की कॉपी छापी जाती थी. लेकिन पहली बार बजट पेपरलेस होगा. इस बार सांसदों को बजट की सॉफ्ट कॉपी दी जाएगी. गौरतलब है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक फरवरी को वित्त वर्ष 2021-22 का बजट पेश करेंगी.


संसद का बजट सत्र 29 जनवरी से शुरू होगा और 8 अप्रैल तक चलेगा. यह दो चरणों में होगा. पहला चरण जनवरी में शुरू होकर 15 फरवरी तक चलेगा जबकि इसका दूसरा चरण 8 मार्च से 8 अप्रैल तक होगा. 16 फरवरी से 7 मार्च तक ब्रेक रहेगा.


10.भारत सरकार ने टीकों के बीच चयन के विकल्प को किया ख़ारिज

केंद्र सरकार ने अब तक भारत के सीरम इंस्टीट्यूट से 110 लाख और भारत बायोटेक से 55 लाख खुराक का ऑर्डर दिया है. ये टीके 14 जनवरी तक पूरे भारत में निर्धारित विभिन्न टीकाकरण केंद्रों तक पहुंच जाएंगे क्योंकि भारत में 16 जनवरी 2021 को राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान शुरू किया जाएगा.


भारत बायोटेक, अपने टीके की कुल खुराकों में से, भारत सरकार को कोवैक्सीन की 16.5 लाख खुराक मुफ्त प्रदान करेगा. यह उम्मीद की गई है कि, कोवैक्सीन म्युटेंट स्ट्रेन के खिलाफ कार्य करने में अधिक सक्षम हो सकता है. यह क्षमता कोविशील्ड से अधिक मूल्य निर्धारण के लिए भी प्रमुख पहलू रही.