Friday, November 6, 2020

सीएम योगी का बड़ा फैसला- 896 हेड कांस्‍टेबलों के डिमोशन का आदेश वापस, आगे से नागरिक पुलिस में नहीं जा सकेंगे पीएसी जवान , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

 सीएम योगी का बड़ा फैसला- 896 हेड कांस्‍टेबलों के डिमोशन का आदेश वापस, आगे से नागरिक पुलिस में नहीं जा सकेंगे पीएसी जवान , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर 




दीपावली से पहले सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने यूपी  पुलिस के 896 हेड कांस्‍टेबलों के डिमोशन का आदेश वापस लेने का निर्देश दिया है। पिछले दिनों पुलिस मुख्‍यालय ने इन हेड कांस्‍टेबलों को मूल काडर पीएसी में वापस भेज दिया था। 


मुख्‍यालय के इस आदेश को लेकर पुलिसकर्मी सकते में थे। सीएम योगी ने कहा कि पुलिस और पीएसी के कर्मचारियों के मनोबल पर किसी प्रकार का प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ना चाहिए। सीएम के आदेश पर यूपी के गृह विभाग ने डिमोशन का आदेश वापस लेने का निर्देश जारी कर दिया है। अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने इसकी जानकारी दी। 


सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने पुलिस और पीएसी के शौर्य और सेवाभाव की सराहना की है। गृह विभाग से जारी आदेश में कहा गया है कि ऐसे कर्मचारी जो उस समय निर्धारित व्‍यवस्‍था के तहत 29 नवम्‍बर 2004 तक पीएसी से नागरिक पुलिस में भेजे गए थे, वे नागरिक पुलिस में खाली पदों के सापेक्ष संविलीन माने जाएंगे। 


सीएम योगी के निर्देश पर पुलिस मुख्‍यालय द्वारा नौ सितम्‍बर को जारी पदानवत आदेश को तत्‍काल प्रभाव से वापस ले लिया गया है। यही नहीं पीएसी के जो कर्मचारी 29 नवम्बर 2004 के बाद सशस्त्र नागरिक पुलिस में गए यदि वे भी निर्धारित मानक पूरे करते हों तो उन्हें भी नागरिक पुलिस में संविलीन किए जाने का आदेश दिया गया सीएम आफिस ने ट्वीट कर इस फैसले के बारे में जानकारी दी।


अब पीएसी से नागरिक पुलिस में नहीं जा सकेंगे कर्मचारी

इसके साथ ही सरकार ने तय किया है कि भविष्य में पीएसी के किसी कर्मचारी को नागरिक पुलिस में नहीं भेजा जाएगा। सीएम योगी ने गृह विभाग को साफ निर्देश दिया कि पीएसी मुख्यालय द्वारा पीएसी और नागरिक पुलिस में प्रोन्नति के अवसर समानान्तर करने के लिए भी अलग प्रस्ताव तैयार किया जाए। 


896 हेड कांस्टेबलों का सितम्‍बर में हुआ था डिमोशन

डीजीपी मुख्यालय ने विभिन्न जिलों और इकाइयों में हेड कांस्टेबल और सब-इंस्पेक्टर पद पर कार्यरत 896 पुलिस कर्मियों को पदावनत करते हुए उनके मूल काडर पीएसी में वापस भेजने का फैसला किया था। इसके अलावा 22 कांस्टेबल भी वापस भेजे गए थे। सभी को पीएसी मुख्यालय लखनऊ में भेजा गया था। यह आदेश जारी होते ही विभाग में हड़कंप मच गया था। कुछ पदावनत पुलिस कर्मी आदेश के विरुद्ध हाईकोर्ट भी गए थे। 


डीआईजी कार्मिक एवं स्थापना डॉ. राकेश शंकर की तरफ से सितम्‍बर में जारी एक आदेश के तहत नागरिक पुलिस में हेड कांस्टेबल पद पर कार्यरत 890 पुलिस कर्मियों को पदावनत करते हुए पीएसी में कांस्टेबल पद पर वापस भेजा गया था। वर्षों पहले पीएसी से नागरिक पुलिस में आए ये पुलिस कर्मी प्रोन्नत होकर हेड कांस्टेबल बने थे।


Download Govt Jobs UP Official Android App

Subscribe Govt Jobs UP Official Youtube Channel