Tuesday, September 1, 2020

सतर्कता और कड़ी सुरक्षा के बीच आज से जेईई मेन परीक्षा, विद्यार्थी इन बातों का रखें विशेष ध्यान , क्लिक करे और पढ़े

सतर्कता और कड़ी सुरक्षा के बीच आज से जेईई मेन परीक्षा, विद्यार्थी इन बातों का रखें विशेष ध्यान , क्लिक करे और पढ़े 







तमाम आशंका, व्यापक विरोध और कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच जेईई मेन परीक्षा मंगलवार से शुरू हो रही है। राजधानी में भी 1 से 6 सितंबर तक आधा दर्जन से अधिक केंद्रों पर परीक्षा आयोजित की जाएगी। परीक्षा दो पालियों में सुबह 9 से 12 बजे और दोपहर 3 से 6 बजे तक होगी, जिसे लेकर सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए हैं। केंद्र पर विद्यार्थियों को कोरोना संक्रमण से बचाव की बेहतर व्यवस्था की गई है।
परीक्षा में इस बार सबसे बड़ी चुनौती कोरोना संक्रमण से बचाव करना है। इसके लिए हर परीक्षा केंद्र पर एक आइसोलेशन रूम होगा, जिसमें जिस स्टूडेंट्स का तापमान निर्धारित से अधिक होगा वह परीक्षा देगा। वहीं, केंद्र में एक कम्प्यूटर छोड़कर विद्यार्थियों को बैठाया जाएगा। साथ ही पहली पाली में स्टूडेंट्स जिस कम्प्यूटर पर बैठकर परीक्षा देंगे शाम की पाली में उसके बगल में खाली कम्प्यूटर पर परीक्षा देंगे। विद्यार्थी कम एकत्र हो इसके लिए परीक्षा में स्लॉट ज्यादा किए गए हैं और एक पाली में लगभग 100 स्टूडेंट्स को ही बुलाया गया है। विद्यार्थियों को अपना खुद का मास्क पहनकर सेंटर आना होगा, लेकिन नकल की संभावना को रोकने के लिए उन्हें केंद्र पर एक थ्री लेयर मास्क दिए जाएंगे, जिसे पहनकर ही वे परीक्षा देंगे।
प्रवेश के समय छात्रों के तापमान की जांच की जाएगी। अगर उन्हें किसी तरह की दिक्कत होगी तो उनको अलग रूम में परीक्षा दिलाई जाएगी। हालांकि वहां भी व्यवस्था सख्त ही होगी। विद्यार्थियों को एडमिट कार्ड के साथ दिया गया कोरोना से संबंधित जानकारी वाला एक स्वघोषणा फॉर्म भी घर से भरकर लाना होगा। वहीं, परीक्षा के दौरान सभी सेंटर हर शिफ्ट से पहले और बाद में सैनिटाइज किए जाएगा। दरवाजे सीढ़ी से लेकर कंप्यूटर और कुर्सी सब सैनिटाइज किया जाएगा। परीक्षा केंद्र पर ज्यादा भीड़भाड़ न हो इसके लिए परीक्षा केंद्र से थोड़ा पहले ही अभिभावकों को रोक दिया जाएगा।  रफ शीट और प्रवेश पत्र जमा करना होगा
एनटीए के निर्देश के अनुसार परीक्षार्थियों को परीक्षा खत्म होने के बाद अपना एडमिट कार्ड और रफ सीट केंद्र पर रखे निर्धारित बॉक्स में डालना होगा। एडमिट कार्ड या रफ शीट बॉक्स में नहीं डालने पर उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी और डिसक्वालीफाई भी किया जा सकता है।

विद्यार्थी इसका रखें विशेष ध्यान
- परीक्षार्थियों को बिना एडमिट कार्ड, वैद्य आईडी कार्ड और बिना मेटल डिटेक्टर के जांच के अंदर प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा।
- छात्र को साधारण बॉल पॉइंट पेन, हैंड सैनिटाइजर, पारदर्शी पानी की बोतल और एक अतिरिक्त पासपोर्ट साइज फोटो लाना होगा।
- दिव्यांग छात्र को अपना स्क्राइब खुद लाना होगा। स्क्राइब को शैक्षिक प्रमाण पत्रों के संबंधित स्व घोषणा पत्र कोविड-19 के संबंधित स्वघोषणा पत्र और वैध सरकारी आईडी कार्ड लाना होगा।
- दिव्यांग छात्र के पास दिव्यांगता का प्रमाण पत्र भी होना चाहिए।
- ड्राइंग टेस्ट के लिए छात्रों को अपना खुद का ज्यामेट्री बॉक्स, पेंसिल कलर आदि लाना होगा।

ऑनलाइन होने वाली जेईई मेन परीक्षा का आयोजन नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के माध्यम से होता है। परीक्षा आयोजन में प्रशासन की कोई भूमिका नहीं होती। चिह्नित केंद्रों पर सुरक्षा की जिम्मेदारी पुलिस संभालेगी। प्रशासन सिर्फ परीक्षा केंद्रों पर कोविड प्रोटोकाल का अनुपालन सुनिश्चित कराएगा।
- अमर पाल सिंह, एडीएम, प्रशासन
कोविड प्रोटोकॉल पर नजर रखने को हर केंद्र पर तैनात रहेंगे दो ऑब्जर्वर 
एक सितंबर से शुरू होने वाली जेईई मेन और 13 सितंबर को होने वाली एनईईटी की परीक्षा के दौरान निर्धारित केंद्रों पर कोविड प्रोटोकॉल के मानकों का अनुपालन पूरी सख्ती से होगा। इसके लिए जेईई मेन के 8 व एनईईटी के 72 केंद्रों पर निगरानी के लिए प्रशासन हर केंद्र पर दो-दो ऑब्जर्वर तैनात करेगा।

जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने बताया कि सभी केंद्र व्यवस्थापकों और नोडल अधिकारियों को निर्देश दिया कि सभी केंद्रों पर शांतिपूर्ण ढंग से कोविड प्रोटोकॉल का अनुपालन सुनिश्चित कराते हुए परीक्षा को सम्पन्न कराया जाए। जेईई की परीक्षा दो पालियों में और एनईईटी की परीक्षा एक पाली में सम्पन्न होंगी। इस दौरान जेईई परीक्षा में 4200 और एनईईटी परीक्षा में 35966  परीक्षार्थी हिस्सेदारी करेंगे। उन्होंने बताया कि सभी केंद्र व्यवस्थापकों को निर्देश दिया गया है कि सोशल डिस्टेंसिंग और कोविड प्रोटोकॉल के अनुपालन का ध्यान रखा जाए।

 सभी केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरों को चेक करा लिया जाए कि सभी कार्यशील है अथवा नहीं। परीक्षा के पहले सायंकाल संपूर्ण परिसर, परीक्षा कक्ष एवं फर्नीचर को भली प्रकार से सैनिटाइज कर केंद्र को लॉक कर दिया जाए। साथ ही निर्देश दिया की प्रत्येक केंद्र पर परीक्षार्थी के मोबाइल जमा कराने के लिए लिफाफे रखे जाए ताकि परीक्षार्थी अपना मोबाइल जमा कर सके। साथ ही प्रत्येक केंद्र पर दो सौ मास्क की व्यवस्था भी कराई जाए ताकि बगैर मास्क आने वाले परीक्षार्थी तत्काल भुगतान कर मास्क ले सकें। बगैर मास्क के केंद्र में प्रवेश की अनुमति नही होगी।