Tuesday, September 15, 2020

प्रदेश सरकार के संविदा पर भर्ती के प्रस्ताव के खिलाफ युवाओ में उबाल , किया जोरदार प्रदर्शन , सीएम का पुतला फूंकने की भी की कोशिश , क्लिक करे और पढ़े पूरी पोस्ट

प्रदेश सरकार के संविदा पर भर्ती के प्रस्ताव के खिलाफ युवाओ में उबाल , किया जोरदार प्रदर्शन , सीएम का पुतला फूंकने की भी की कोशिश , क्लिक करे और पढ़े पूरी पोस्ट 





समूह ‘ख’ एवं ‘ग’ की सरकारी नौकरी में पहले पांच साल संविदा पर नियुक्ति दिए जाने के प्रदेश सरकार के प्रस्ताव के विरोध में युवा बेरोजगार सोमवार को सड़क पर उतर आए। इविवि छात्रसंघ भवन के बाहर चल रहे विरोध प्रदर्शन के दौरान जहां एनएसयूआई कार्यकर्ताओं और पुलिस की बीच तीखी झड़प हुई, वहीं बालसन चौराहे पर विरोध प्रदर्शन के दौरान युवा मंच के 10 कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। हालांकि, देर शाम सभी को निजी मुचलके पर रिहा कर दिया गया।
सरकारी नौकरी में पहले पांच वर्षों तक संविदा पर नियुक्त किए जाने का प्रस्ताव वापस लेने और रिक्त पदों पर भर्ती पूरी किए जाने की मांग को लेकर युवा मंच के अध्यक्ष अनिल सिंह के नेतृत्व में युवाओं ने सोमवार सुबह बालसन चौराहे पर विरोध प्रदर्शन किया। वहां बड़ी संख्या में छात्र जुटे थे।
प्रदर्शन शुरू होते ही पुलिस फोर्स सक्रिय हो गई और प्रदर्शन में शामिल युवा मंच के अध्यक्ष अनिल सिंह, अमरेंद्र सिंह, शशि धर यादव, अरविंद सिंह, राहुल कुमार पटेल, बलराम सिंह, कुलदीप कुमार, शोभित सिंह आदि को हिरासत में ले लिया। सभी को जॉर्जटाउन थाने ले जाया गया और देर शाम चेतावनी देकर छोड़ दिया गया। युवा मंच के संयोजक राजेश सचान ने शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे छात्रों को हिरासत में लिए जाने की तीखी भत्र्सना की। उन्होंने कहा कि सरकार अगर संविदा पर नियुक्ति का प्रस्ताव वापस नहीं लेती है तो आंदोलन और तेज होगा।

दूसरी, ओर इविवि छात्रसंघ भवन के बाहर मुख्यमंत्री का पुतला दहन करने पहुंचे एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच तीखी झड़प हुई। छात्रों को रोकने के लिए पुलिस को हल्का बल प्रयोग भी करना पड़ा। पुलिस ने छात्रों के हाथों से पुतला छीन लिया। छात्रों ने प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी और प्रदर्शन किया। एनएसयूआई पूर्वी यूपी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पांच साल की संविदा भर्ती के प्रस्ताव का विरोध करते हुए कहा कि सरकार द्वारा लाया गया यह काला कानून है।

प्रभारी जितेश मिश्र ने कहा कि सरकार रोजगार देने के बजाय नए कानून से छात्रों के साथ छलावा कर रही है। इस मौके पर इविवि ईकाई अध्यक्ष सत्यम कुशवाहा, सीएमपी डिग्री कॉलेज के पूर्व छात्र परिषद अध्यक्ष करन  सिंह परिहार समेत जय सिंह, दुर्गेश सिंह, अभिषेक द्विवेदी, प्रवीण यादव, अक्षय यादव, कोमलाक्ष, अश्वनी यादव, अभिषेक द्विवेदी आदि मौजूद रहे।
अनशन स्थल पर भी संविदा भर्ती के प्रस्ताव का विरोध
विभिन्न मांगों को लेकर इविवि छात्रसंघ भवन के सामने समाजवादी छात्रसभा के बैनर तले छात्रों का आमरण अनशन सोमवार को भी जारी रहा। इस दौरान पांच साल की संविदा भर्ती के प्रस्ताव का विरोध किया गया। मौके पर पहुंचे सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष पंधारी यादव ने छात्र आंदोलन को अपना समर्थन दिया और कहा कि संविदा भर्ती की आड़ में युवाओं के रोजगार से खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने सवाल उठाया कि अगर पांच साल बाद किसी को नौकरी से निकाल दिया जाएगा और सरकारी नौकरी में आवेदन के लिए उसकी अधिकतम आयु सीमा पूरी हो चुकी होगीख्तो वह कहां जाएगा। अनशन स्थल पर चंद्रशेखर चौधरी, अजय यादव सम्राट, सुशील कुशवाहा, राहुल पटेल, मोहम्मद मुब्बसिर, नवनीत यादव, अभिषेक प्रधान आदि मौजूद रहे।

डीएलएड प्रशिक्षुओं की भी गिरफ्तारी
प्रयागराज। संविदा भर्ती के प्रस्ताव के विरोध में सोमवार को जिलाधिकारी कार्यालय में ज्ञापन देने पहुंचे डीएलएड संयुक्त प्रशिक्षु मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष रजत सिंह, अश्विनी सिंह, सुनील यादव एवं अन्य प्रशिक्षुओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया और पुलिस लाइन भेज दिया। प्रशिक्षु नई शिक्षक भर्ती शीघ्र शुरू किए जाने और संविदा भर्ती के प्रस्ताव को वापस लिए जाने की मांग कर रहे थे।