Friday, July 3, 2020

बेसिक शिक्षा विभाग में फर्जी शिक्षकों से 9 अरब वसूलेगी योगी सरकार , जारी हो चूका है रिकवरी नोटिस , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

बेसिक शिक्षा विभाग में फर्जी शिक्षकों से 9 अरब वसूलेगी योगी सरकार , जारी हो चूका है रिकवरी नोटिस , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर 


उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा विभाग में फर्जी दस्तावेजों से नौकरी करने वाले १४०० से ज्यादा शिक्षकों से अब ९०० करोड़़ की रिकवरी होगी। इनमें ज्यादातर को रिकवरी की नोटिसें जारी हो चुकी हैं और यह सभी सेवा से बर्खास्त हो चुके हैं। विभाग की ओर से प्राथमिकी दर्ज करा देने के बाद अब इन सभी फर्जी शिक्षकों की गिरफ्तारी जल्द शुरू होगी। अभी तक प्रदेश में ऐसे फर्जी दस्तावेजों से नौकरी हासिल कर चुके १४२७ शिक्षक सामने आ गए हैं॥। अनामिका शुक्ला प्रकरण सामने आने पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने बेसिक के साथ ही माध्यमिक तथा उच्च शिक्षा विभाग से सभी शिक्षकों के शैक्षणिक रिकार्ड की जांच करने का आदेश दिया है। फर्जी शिक्षकों के जरिये सरकारी खजाने को तगड़ी चोट पहÙंचाने वाले शिक्षकों से करीब नौ सौ करोड़ »पया वसूला जाएगा। अनामिका शुक्ला के नाम पर २४ जिलों में फर्जी अनामिका शुक्ला के बाद फर्जी ९३० की सेवा समाप्त कर दी गई है जबकि ४९७ के खिलाफ केस दर्ज कराया गया है। बेसिक शिक्षा विभाग के निदेशक ने प्रदेश के बेसिक शिक्षा अधिकारियों से फर्जी शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई का ब्यौरा मांगा है। एक बार इनका ब्यौरा निदेशालय आ जाएगा और फिर अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा के कार्यालय में रिपोर्ट पहुंचने पर वसूूली की कार्रवाई होगी। इस प्रकरण में एक–एक शिक्षक से करीब ६०–६० लाख रुûपया वसूला जा सकेगा। इनमें से ११७ तो ऐसे शिक्षक हैं जो ५० करोड़ से ज्यादा की सेलरी ले चुके हैं। यह सभी एटा के हैं‚ जहां से अनामिका शुक्ला प्रकरण सामने आया था। इन सभी फर्जी शिक्षकों को नोटिस जारी हो गया है और नोटिस मिलने के एक सप्ताह के भीतर पैसा जमा करने के लिए कहा गया है। इनका निर्धारित समय में पैसा जमा नहीं हुआ तो आरसी काट दी जाएगी। यह पूरी प्रक्रिया बेसिक शिक्षा अधिकारी के स्तर से ही पूर्ण होनी हैं। ॥ बाराबंकी में फर्जी पैन कार्ड लगाकर सेलरी पाने वाले पांच शिक्षक बेनकाबः बाराबंकी में भी शैक्षिक अभिलेखों की जांच में पांच शिक्षक और एक चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के मामले मिले हैं‚ जिसमें एक ही पैन नंबर पर अलग–अलग नाम दर्ज हैं। केवल उनका खाता नंबर अलग है। इस वक्त प्रदेश में बेसिक शिक्षकों के वेतन संबंधी अभिलेखों की जांच हो रही है। बाराबंकी के बीएसए वीपी सिंह ने बताया कि जिले के सभी शिक्षकों का डेटा चेक कराया जिसमें ५ शिक्षक और चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी बाराबंकी जिले में ऐसे पाए गए जिनका पैन नंबर एक ही था। इन सभी को नोटिस देकर कार्यालय में अपना पक्ष रखने के लिए निर्देशित किया गया है॥।