Tuesday, July 14, 2020

आगरा ::: चेतावनी के बाद भी 47 शिक्षकों ने नहीं दिए दस्तावेज, बड़े फर्जीवाड़े की आशंका , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

आगरा ::: चेतावनी के बाद भी 47 शिक्षकों ने नहीं दिए दस्तावेज, बड़े फर्जीवाड़े की आशंका ,  क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर 




बेसिक शिक्षा विभाग में चल रहे फर्जीवाड़े की जांच में शिक्षकों की लापरवाही संदेह बढ़ा रही है। जांच के लिए जिले के 47 शिक्षकों ने अपने दस्तावेज शिक्षा विभाग को नहीं दिए हैं। बार-बार चेतावनी के बाद भी दस्तावेज न देने पर विभाग ने लापरवाह शिक्षकों को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा है। साथ ही चेतावनी दी है कि बुधवार दोपहर तक दस्तावेज नहीं दिए तो वेतन रोकते हुए विभागीय कार्रवाई कर दी जाएगी। इस नोटिस के बाद भी मंगलवार को लापरवाह शिक्षक दस्तावेज जमा करने नहीं पहुंचे।

अनामिका प्रकरण के बाद बेसिक शिक्षा विभाग में फर्जीवाड़े की जांच तेजी के साथ की जा रही है। सभी शिक्षकों और कर्मचारियों के दस्तावेजों की जांच चल रही है। अब तक लगभग 35 प्रतिशत शिक्षामित्रों ने अभी दस्तावेज नहीं दिए हैं। उन्हें फिलहाल बुधवार तक का समय दिया गया है, लेकिन शिक्षा विभाग के 47 शिक्षक ऐसे पाए गए हैं जो बार बार चेतावनी और निर्धारित समय गुजरने पर भी दस्तावेज नहीं दे रहे।

इन्हें पहले तीन जुलाई तक का समय दिया गया था फिर छह जुलाई तक समय बढ़ाया। उसके बाद 10 जुलाई का अंतिम मौका दिया। फिर भी जब लापरवाह शिक्षकों ने दस्तावेज नहीं दिए तो अब शिक्षा विभाग ने सोमवार को इन सभी लापरवाहों को नोटिस जारी कर दिया। बुधवार दोपहर तक का अंतिम समय दिया गया है। शिक्षकों की यह लापरवाही फर्जीवाड़े का संदेह बढ़ा रही है।

शिक्षामित्र भी नहीं दे रहे पूर्ण दस्तावेज
लापरवाह शिक्षामित्रों के अलावा जिन शिक्षामित्रों ने अपने दस्तावेज जांच को दे दिए हैं। उनमें तमाम ऐसे हैं जिन्होंने अपने पूर्ण दस्तावेज नहीं दिए। किसी ने नियुक्ति पत्र नहीं दिया है तो कोई अपने प्रशिक्षण की डिग्री नहीं दे पा रहा है। विभाग ने स्पष्ट किया है कि जांच में जो भी दस्तावेज अपूर्ण मिलेंगे। संबंधित के खिलाफ कार्रवाई होगी।

आंकड़े की नजर से
- 2973 शिक्षकों के दस्तावेजों की हो रही है जांच।
- 2926 शिक्षको ने ही अभी तक जमा किए हैं दस्तावेज।

जिन शिक्षकों ने अपने दस्तावेज जमा नहीं किए हैं उन सभी को नोटिस दे दिया गया है। बुधवार दोपहर तक दस्तावेज नहीं मिलते हैं तो दोपहर बाद वेतन रोकते हुए विभागीय कार्रवाई कर दी जाएगी- अंजली अग्रवाल, बीएसए।