Saturday, June 27, 2020

सीबीएसई बोर्ड 2020 की बची परीक्षाएं रद्द करने पर सुप्रीम कोर्ट की मुहर , सीबीएसई की मूल्यांकन स्कीम को भी सुप्रीम कोर्ट ने स्वीकारा , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

सीबीएसई बोर्ड 2020 की बची परीक्षाएं रद्द करने पर सुप्रीम कोर्ट की मुहर , सीबीएसई की मूल्यांकन स्कीम को भी सुप्रीम कोर्ट ने स्वीकारा , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर 


कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए दसवीं और बारहवीं की जुलाई में प्रस्तावित बाकी बची परीक्षाओं को रद करने के सीबीएसई और आईसीएसई के निर्णय पर सुप्रीम कोर्ट ने भी शुक्रवार को अपनी मंजूरी दे दी। इसके साथ ही दोनों ही बोर्डो ने कोर्ट को 15 जुलाई तक रिजल्ट घोषित करने की भी जानकारी दी है। इस बीच कोर्ट ने दोनों ही बोर्डो की रद हुईं परीक्षाओं के मूल्यांकन पैटर्न और बाद में परीक्षा कराने को लेकर पेश किए गए विकल्प को भी अपनी स्वीकृति दे दी है। हालांकि परीक्षा का विकल्प सिर्फ बारहवीं के ही छात्रों के लिए होगा। दोनों ही बोर्डो ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट को एक से पंद्रह जुलाई के बीच प्रस्तावित परीक्षाओं के रद करने की जानकारी दी थी। सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश एएम खानविलकर, दिनेश माहेश्वरी और संजीव खन्ना की पीठ ने शुक्रवार को अपना फैसला दिया। अभी सभी छात्रों को मूल्यांकन के तय पैटर्न के तहत अंक देकर रिजल्ट घोषित कर दिया जाएगा, लेकिन यदि बाद में कोई भी छात्र परीक्षा में शामिल होता है तो परीक्षाओं में मिलने वाले अंक को ही अंतिम माना जाएगा। वहीं सीबीएसई के बाद अब आइसीएसई भी छात्रों को बाद में अंकों में सुधार के लिए परीक्षा का एक विकल्प देने को तैयार हो गया है। बोर्ड ने शुक्रवार को कोर्ट को इसकी जानकारी दी है।


मूल्यांकन के ये होंगे चार पैटर्न

’ >>दसवीं और बारहवीं के ऐसे छात्र जिनकी सारी परीक्षाएं हो चुकी हैं, उनका रिजल्ट उनके परीक्षाओं के प्रदर्शन के आधार पर घोषित होंगे

’ >>ऐसे छात्र जिनकी तीन से ज्यादा विषयों की परीक्षाएं हो चुकी हैं उनकी रद हुई परीक्षाओं का मूल्यांकन उनके द्वारा दिए गए ऐसे तीन विषय, जिनमें सबसे ज्यादा अंक होंगे, उसके औसत के आधार पर प्रदान किया जाएगा

’ >>ऐसे छात्र जिनकी तीन विषयों की परीक्षाएं हो चुकी हैं उनकी रद परीक्षाओं का मूल्यांकन दी गई परीक्षाओं में ज्यादा अंक मिलने वाले दो विषयों के औसत अंकों के आधार पर किया जाएगा।

’ >>ऐसे छात्र जिनकी अब तक सिर्फ एक या दो विषयों की ही परीक्षाएं हुई हैं, उनका रिजल्ट आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर घोषित किया जाएगा। इसमें सेमेस्टर परीक्षाएं व प्रैक्टिकल प्रोजेक्ट आदि शामिल होंगे। बाद में स्थितियों के सामान्य होने पर जब भी परीक्षाएं कराई जाएंगी तो वे इसमें शामिल हो सकेंगे।

4सुप्रीम कोर्ट ने बोर्ड परीक्षा रद करने के निर्णय को भी दी मंजूरी

4मूल्यांकन पैटर्न, रिजल्ट सहित बाद में परीक्षा के विकल्पों को भी मिली स्वीकृति

4आइसीएसई भी छात्रों को अंकों में सुधार के लिए परीक्षा का विकल्प देने को तैयार