Wednesday, June 17, 2020

सीबीएसई बोर्ड ::: 10वीं व 12वीं की परीक्षाएं हो सकती हैं स्थगित , मंत्रलय ने परीक्षाएं कराने के फैसले पर फिर किया मंथन, जल्द किया जा सकता है एलान , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

सीबीएसई बोर्ड ::: 10वीं व 12वीं की परीक्षाएं हो सकती हैं स्थगित , मंत्रलय ने परीक्षाएं कराने के फैसले पर फिर किया मंथन, जल्द किया जा सकता है एलान , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर 






कोरोना के बढ़ते संक्रमण और परिजनों के दबाव को देखते सीबीएसई की जुलाई में प्रस्तावित 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं फिलहाल स्थगित की जा सकती हैं। साथ ही जिन विषयों की परीक्षाएं अभी होनी हैं, उन विषयों में छात्रों को प्री-बोर्ड या आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर औसत अंक प्रदान कर प्रमोट किया जा सकता है। इसके अलावा छात्रों को एक और भी विकल्प दिया जा सकता है, जिसमें उन्हें संबंधित विषयों में अंक सुधार के लिए बाद में परीक्षा का विकल्प भी शामिल है। फिलहाल सीबीएसई की 10वीं और 12वीं के बाकी बचे विषयों की परीक्षाएं एक जुलाई से प्रस्तावित हैं।

इनमें 10वीं की परीक्षाएं सिर्फ उत्तर-पूर्वी दिल्ली में होनी हैं जबकि 12वीं की बची परीक्षाएं पूरे देश में होनी हैं।मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने मंगलवार को एक जुलाई से प्रस्तावित सीबीएसई की बोर्ड परीक्षाओं को लेकर मंत्रलय के आला अधिकारियों और सीबीएसई के चेयरमैन के साथ लंबी बैठक की। सूत्रों के मुताबिक बैठक में परीक्षाओं की जगह दूसरे सभी विकल्पों को लेकर मंथन किया गया। वहीं किसी भी फैसले से पहले अभिभावकों की चिंताओं को ध्यान में रखने की जरूरत पर जोर दिया गया। बैठक में अभिभावकों की ओर से परीक्षाएं नहीं कराने को लेकर छेड़ी गई मुहिम और सुप्रीम कोर्ट में इसे लेकर लंबित मामले को लेकर भी लंबी चर्चा हुई है। सूत्रों की मानें तो अभिभावकों ने जो तर्क रखे हैं, उससे मंत्रलय भी सहमत है। यही वजह है कि वह परीक्षाओं को फिलहाल स्थगित करना ही बेहतर मान रहा है।परीक्षाओं को लेकर अभिभावकों के जो तर्क हैं, उसमें साफ कहा है कि यह विषय सिर्फ छात्रों की सुरक्षा तक ही सीमित नहीं है, बल्कि इससे उनके पूरे परिवार की भी सुरक्षा खतरे है। ऐसे में एक छोटी सी गलती भी सब पर भारी पड़ सकती है। हाल ही में आइसीएसई बोर्ड ने भी बांबे हाई कोर्ट में 10वीं और 12वीं की जुलाई में लंबित परीक्षाओं को लेकर एक प्रस्ताव दिया है जिसमें आंतरिक आकलन के आधार पर ही छात्रों को प्रमोट करने जैसे विकल्प दिए गए हैं। हालांकि इस पर अभी फैसला होना बाकी है। सूत्रों की मानें तो मंत्रलय अगले एक-दो दिनों में ही परीक्षाओं को लेकर कोई फैसला ले सकता है।