Sunday, May 24, 2020

UPPSC ::: जल्द आ सकता है पीसीएस मुख्य परीक्षा का परिणाम , दस से पंद्रह दिनों में घोषित करने की उम्मीद , अक्टूबर 2019 में हुई थी परीक्षा , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

UPPSC ::: जल्द आ सकता है पीसीएस मुख्य परीक्षा का परिणाम , दस से पंद्रह दिनों में घोषित करने की उम्मीद , अक्टूबर 2019 में हुई थी परीक्षा , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर 






लॉक डाउन के दौरान उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) ने कई परीक्षाओं के परिणाम जारी कर दिए लेकिन पीसीएस-२०१८ की मुख्य परीक्षा का परिणाम अब तक नहीं आया है। यूपीपीएससी जल्द ही मुख्य परीक्षा का परिणाम जारी कर सकता है। आयोग में परीक्षा परिणाम तैयार किए जाने का काम अंतिम दौर में है। परीक्षा परिणाम १० से १५ दिनों में आ सकता है।

पीसीएस प्रारंभिक परीक्षा अक्तूबर २०१८ मेें आयोजित की गई थी। आयोग ने पांच माह बाद ३० मार्च २०१९ को प्रारंभिक परीक्षा का परिणाम घोषित कर दिया था, जिसमें मुख्य परीक्षा के लिए १९०९६ अभ्यर्थियों को सफल घोषित किया गया था। पीसीएस के ९८८ पदों पर भर्ती के लिए मुख्य परीक्षा अक्तूबर २०१९ में कराई गई थी।

आयोग ने मार्च/अप्रैल में परिणाम घोषित करने की तैयारी की थी लेकिन लॉक डाउन के कारण आयोग बंद हो गया और मुख्य परीक्षा का रिजल्ट फंस गया। हालांकि लॉक डाउन के बीच २० अप्रैल से आयोग फिर खुल गया और वहां कामकाज शुरू हो गया। आयोग कार्यालय खुलने के बाद कई परीक्षाओं के परिणाम जारी किए गए लेकिन पीसीएस-२०१८ की मुख्य परीक्षा का रिजल्ट अब तक नहीं आया।

पहली बार पीसीएस परीक्षा नए पैटर्न पर हुई थी, सो अभ्यर्थी यह जानने के लिए बेचैन हैं कि नए पैटर्न पर आयोजित परीक्षा का परिणाम कैसा होगा। अभ्यर्थियों को रिजल्ट का बेसब्री से इंतजार हे। आयोग के सूत्रों का कहना है कि परिणाम तैयार करने का काम अंतिम दौर में है और जल्द ही रिजल्ट घोषित किया जा सकता है। इस बारे में आयोग के सचिव जगदीश का कहना है कि रिजल्ट पर काम चल रहा है। इसमें १५ दिनों का वक्त लग सकता है।

परिणाम के बाद इंटरव्यू करा पाना चुनौती
पीसीएस-२०१८ की मुख्य परीक्षा का रिजल्ट जारी होने के बाद भी आयोग के लिए चुनौतियां कम नहीं होंगी। अंतिम परिणाम जारी करने से पहले मुख्य परीक्षा में सफल होने वाले अभ्यर्थियों का साक्षात्कार भी कराया जाएगा और मौजूदा परिस्थितियों में यह काम आसान नहीं होगा। कोविड-१९ महामारी को ध्यान में रखते हुए आयोग को इंटरव्यू का कार्यक्रम जारी करना होगा। साथ ही सोाशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के साथ अन्य सावधानियां भी बरतनी होंगी।