Sunday, May 24, 2020

दुःखद ::: अलीगढ में प्रशिक्षण पा रहे पीएसी के रिक्रूट की चक्कर खाकर गिरने से मौत , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

दुःखद ::: अलीगढ में प्रशिक्षण पा रहे पीएसी के रिक्रूट की चक्कर खाकर गिरने से मौत , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर 





पीएसी 38वीं वाहिनी में प्रशिक्षण पा रहे बागपत के रिक्रूट सिपाही की शनिवार सुबह-सुबह परेड मैदान पर चक्कर खाकर गिरने से मौत हो गई। हालांकि पीएसीकर्मी आनन-फानन उसे जेएन मेडिकल कालेज लेकर पहुंचे। मगर उसे बचाया नहीं जा सका। इधर, देर शाम बागपत से आए परिवार ने अनुशासनहीनता में दंड में अधिक दौड़ लगवाने और उससे मौत होने का आरोप लगा दिया। हालांकि पुलिस जांच में देर रात तक इस तरह के किसी आरोप की पुष्टि नहीं हुई है। वहीं मीडिया के सामने भी परिवार वाले बात करने से कतराते रहे। अब पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण स्पष्ट होगा। इधर, शव को कोविड-19 की जांच के चलते देर रात तक पोस्टमार्टम के लिए नहीं भेजा गया था।


क्वार्सी पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, मूल रूप से बागपत के सिंहावली अहीर निवासी रमेश यादव का 22 वर्षीय बेटा विशाल विजय यादव पीएसी में बतौर कांस्टेबल भरती हुआ था। 6 माह से उसकी ट्रेनिंग यहां रामघाट रोड 38वीं वाहिनी में चल रही है। वह टोली नंबर 10 में शामिल था। बताया गया है कि वाकये के अनुसार शनिवार सुबह साढ़े आठ बजे करीब परेड मैदान पर ट्रेनिंग के दौरान अचानक उसे चक्कर आए।
उसने अपने ट्रेनिंग उस्ताद को चक्कर आने की जानकारी दी तो उस्ताद ने उसे बैठने के लिए बोला, मगर बैठते-बैठते वह जमीन पर गिर गया। इस पर आनन-फानन उसे पहले क्वार्सी के ट्रामा सेंटर और वहां से मेडिकल कालेज ले जाया गया। जहां कुछ देर में ही उसे मृत घोषित कर दिया गया। इसके बाद शव के पोस्टमार्टम व एहतियातन कोविड जांच की तैयारी हुई। 

इधर, देर रात उसके पिता व बहनोई सहित कुछ अन्य परिजन यहां पहुंच गए थे। पुलिस के अनुसार परिवार ने यह आरोप लगाया कि बच्चे ने कोई अनुशासनहीनता कर दी थी, जिस पर उसे बतौर दंड अधिक दौड़ लगवा दी और जिससे उसकी मौत हो गई। मगर जब मीडिया ने मेडिकल कॉलेज में परिवार से इस सवाल पर बात करनी चाही तो वह चुप्पी साध गए। 



इंस्पेक्टर क्वार्सी छोटेलाल के अनुसार परिवार वालों ने जब दंड दिए जाने का आरोप लगाया तो हमारे स्तर से जांच की गई। जिसमें साथी रिक्रूटों से बात की गई। मगर वहां इस तरह की कोई बात सामने नहीं आई है। यही पता चला है कि अचानक चक्कर आने से वह गिर पड़ा। शव की कोविड जांच कराई गई है। उसकी रिपोर्ट आने के बाद पोस्टमार्टम पैनल के जरिये वीडियोग्राफी के बीच होगा।

-रिक्रूटों की सामान्य ट्रेनिंग के दौरान यह दुखद हादसा हुआ है। इस विषय में अगर कोई इस तरह की बात कह रहा है तो गलत है। मैदान खुला हुआ रहता है, सभी लोग चारों ओर से देखते हैं। वहीं फोर्स में इस तरह के दंड ट्रेनिंग का हिस्सा भी होते हैं, जिससे रिक्रूट मजबूत होते हैं। मगर इस प्रकरण में कोई दंड नहीं दिया गया।-अनीस अहमद अंसारी कमांडेंड पीएसी 38वीं वाहिनी

शव मोरचरी में, परिवार गेस्ट हाउस में रोका गया
रिक्रूट के शव का कोरोना सैंपल लिए जाने के कारण पोस्टमार्टम में देरी हो रही है। उम्मीद है कि रात में या सुबह शव का पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर होगा। तब तक के लिए परिवार को पीएसी गेस्ट हाउस में रोका गया है। देर रात मेडिकल कॉलेज में मौजूद परिवार वालों से बात हुई तो उन्होंने बताया कि रिक्रूट सिपाही विशाल विजय तीन बहनों में इकलौता भाई था। इस खबर पर परिवार में कोहराम मचा हुआ है। मगर वह अन्य सवालों पर चुप्पी साध गए।