Friday, March 27, 2020

बहुसंख्यक छात्रों को फेल करने का ट्वीट कर घिरा जामिया का शिक्षक, निलंबित , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

बहुसंख्यक छात्रों को फेल करने का ट्वीट कर घिरा जामिया का शिक्षक, निलंबित , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर 





जामिया मिल्लिया इस्लामिया के इलेक्ट्रॉनिकल इंजीनियरिंग विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. अबरार अहमद को सोशल मीडिया पर एक टिप्पणी करनी भारी पड़ गई। उन्होंने बुधवार को ट्वीट किया था कि बहुसंख्यक समुदाय से जुड़े 15 छात्रों को एक परीक्षा में फेल कर दिया है। इसके बाद मामला तूल पकड़ा तो विश्वविद्यालय प्रशासन ने उन्हें निलंबित कर दिया और मामले में जांच बैठा दी।डॉ. अबरार अहमद का ट्वीट कुछ देर में ही सोशल मीडिया में बहस का विषय बन गया। लोगों ने उन्हें जमकर लताड़ लगाई। विश्वविद्यालय प्रशासन की कार्रवाई के बाद डॉ. अबरार अहमद सफाई देने लगे। जामिया शिक्षक संघ को ईमेल के जरिये भेजे जवाब में उन्होंने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में महज व्यंग्य किया था। उन्होंने कहा कि जामिया में 12 साल से पढ़ा रहा हूं, लेकिन इस दौरान किसी भी छात्र के साथ कोई भेदभाव नहीं किया है। वैसे भी जामिया में हाल में कोई लिखित परीक्षा नहीं हुई है। बीते सेमेस्टर में उनके सभी छात्र पास हैं। हां, अपनी बात को सही ढंग से पेश नहीं कर पाने की गलती मानता हूं। उन्होंने आरोप लगाया कि कोरोना के कारण सीएए का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों को हटाया जा रहा है। इस कानून के तहत अल्पसंख्यक समुदाय के साथ भेदभाव किया जा रहा है।