Friday, March 27, 2020

छात्र और शिक्षकों को अब नहीं अखरेगा लॉकडाउन , एचआरडी मंत्रलय व यूजीसी ने फ्री किए अपने 10 ऑनलाइन प्लेटफॉर्म, घर में रहकर भी हो सकेगी पढ़ाई , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

छात्र और शिक्षकों को अब नहीं अखरेगा लॉकडाउन , एचआरडी मंत्रलय व यूजीसी ने फ्री किए अपने 10 ऑनलाइन प्लेटफॉर्म, घर में रहकर भी हो सकेगी पढ़ाई , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर 





कोरोना वायरस के चलते घोषित लॉकडाउन से अब छात्रों और शिक्षकों को परेशान होने की जरूरत नहीं है। वे घर में रहकर भी पठन-पाठन जारी रख सकेंगे। इसके लिए सरकार उन्हें पूरी सुविधा उपलब्ध कराने में जुटी हुई है। मानव संसाधन विकास (एचआरडी) मंत्रलय और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने पठन-पाठन के काम को प्रभावी और निर्बाध रूप से जारी रखने के लिए 10 और ऑनलाइन विकल्प उपलब्ध कराए हैं। पहले इनमें से कई के लिए छात्रों को पंजीकरण कराना होता था और शुल्क भी देना पड़ता था, लेकिन अब ये पूरी तरह मुफ्त होंगे। मंत्रलय ने छात्रों को सोशल मीडिया के जरिये दोस्तों और शिक्षकों से जुड़कर भी पढ़ाई करने की सलाह दी है। फिलहाल देश में 3.5 करोड़ से ज्यादा छात्र उच्च शिक्षा हासिल कर रहे हैं, जिन्हें इसका लाभ मिलेगा।
मानव संसाधन विकास मंत्रलय से जुड़े अधिकारियों का मानना है कि ऑनलाइन विकल्पों के कारण छात्रों और शिक्षकों में पठन-पाठन को लेकर तनाव पैदा नहीं होगा। साथ ही कॉलेज की तरह छात्र अपने दोस्तों और शिक्षकों के संपर्क में भी रह सकेंगे। फिलहाल इन ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर छात्रों को कोर्स के साथ-साथ शोध और दूसरे अहम विषयों से जुड़ी पाठ्य सामग्री उपलब्ध कराई गई हैं। इन पर शोध से जुड़े छात्रों व शिक्षकों
मंत्रलय ने यह कदम कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए लागू किए गए 21 दिनों के देशव्यापी लॉकडाउन के सिलसिले में उठाया है। इस दौरान विश्वविद्यालयों तथा कॉलेजों को बंद कर दिया गया है। यूजीसी के सचिव रजनीश जैन का कहना है कि यदि कोई छात्र पढ़ना चाहता है तो उसके लिए ऑनलाइन ढेर सारी अध्ययन सामग्री उपलब्ध करा दी गई है। वह खुद मंत्रलय के संपर्क में हैं।
यूजीसी छात्रों और शिक्षकों की मदद के लिए सभी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों को हेल्पलाइन नंबर और ई-मेल आइडी जारी करने को पहले ही कह चुका है।