Wednesday, February 12, 2020

बड़ी खबर ::: पढ़ाई में अव्वल होंगे तभी विद्यार्थियों को मिलेगी छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति , मैनेजमेंट कोटे के छात्रों को नहीं मिलेगी छात्रवृत्ति, समाज कल्याण ने भेजे दिशा निर्देश , क्लिक करे और पढ़े पूरी पोस्ट

बड़ी खबर ::: पढ़ाई में अव्वल होंगे तभी विद्यार्थियों को मिलेगी छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति , मैनेजमेंट कोटे के छात्रों को नहीं मिलेगी छात्रवृत्ति, समाज कल्याण ने भेजे दिशा निर्देश , क्लिक करे और पढ़े पूरी पोस्ट 





निर्धन परिवारों के छात्र-छात्रओं को यदि छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति चाहिए तो उन्हें पढ़ाई में अव्वल आना होगा। प्रदेश सरकार एससी, एसटी व सामान्य वर्ग के उन छात्र-छात्रओं को ही दशमोत्तर छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति की सुविधा प्रदान करेगी जो काबिलियत के दम पर संस्थानों व कॉलेजों में दाखिला पाएंगे। मैनेजमेंट कोटे से प्रवेश पाने वाले छात्र-छात्रओं को शुल्क प्रतिपूर्ति का लाभ नहीं मिलेगा। साथ ही उन निजी विश्वविद्यालयों के छात्र-छात्रओं को ही इस योजना का लाभ मिलेगा जिनकी नैक ग्रे¨डग बी या इससे ऊपर की होगी।
समाज कल्याण विभाग ने दशमोत्तर छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति के नए दिशा-निर्देश सभी जिलों को भेज दिए हैं। इसमें कहा गया है कि जिन शिक्षण संस्थानों में अखिल भारतीय या फिर राज्य स्तरीय प्रवेश परीक्षा से दाखिले होते हैं उनके छात्रों को ही छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति की सुविधा मिलेगी। यानी इंजीनियरिंग व मेडिकल कॉलेजों में नीट के जरिए व पॉलीटेक्निक संस्थानों में राज्य स्तरीय प्रवेश परीक्षा के जरिए दाखिला पाने वाले गरीब छात्र-छात्रओं को ही इसका लाभ मिलेगा। निजी क्षेत्र के जिन शिक्षण संस्थानों के प्रोफेशनल पाठ्यक्रमों में दाखिला इंटर की मेरिट के आधार पर होता है, उनमें इंटर में 60 फीसद से कम अंक पाने वालों को छात्रवृत्ति नहीं मिलेगी। यदि किसी संस्थान में नवीनीकरण छात्रों का प्रतिशत 50 फीसद से कम है तो छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति की राशि संस्थान को वापस करनी होगी। किसी पाठ्यक्रम के प्रथम वर्ष में यदि 100 छात्र प्रवेश लेते हैं तो द्वितीय वर्ष में 50 से अधिक संख्या होनी चाहिए। छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति के लिए नियमित उपस्थिति भी अनिवार्य की गई है। 75 फीसद से कम उपस्थिति वाले छात्र-छात्रओं को सुविधा नहीं मिलेगी।
आवेदन के लिए आधार नंबर जरूरी
समाज कल्याण विभाग ने वर्ष 2020-21 से छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति के आवेदन के लिए आधार नंबर अनिवार्य कर दिया है। आधार नंबर ही नहीं बल्कि इसके प्रमाणीकरण के बाद ही आवेदन पत्र अग्रसारित किए जाएंगे। यानी आधार कार्ड में दर्ज विवरण नाम, पिता का नाम, जन्म तिथि आदि हाईस्कूल में दर्ज विवरण से मिलना जरूरी है। इसके बगैर फार्म अग्रसारित नहीं किया जाएगा।
एससी-एसटी छात्रों को मुफ्त दाखिला नहीं
एससी-एसटी छात्र-छात्रओं को किसी भी शिक्षण संस्थान में मुफ्त दाखिला नहीं मिलेगा। यह सुविधा वर्ष 2018-19 से ही समाप्त कर दी गई है। फीस जमा होने के बाद छात्र-छात्रओं की शुल्क प्रतिपूर्ति करने का ही नियम है।
अल्पसंख्यक संस्थानों में 50 फीसद को ही सुविधा
समाज कल्याण विभाग अल्पसंख्यक संस्थानों में 50 फीसद छात्र-छात्रओं को ही छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति प्रदान करता है। क्योंकि इन संस्थानों में आधे छात्र अल्पसंख्यक होते हैं। निदेशक ने ऐसे अल्पसंख्यक संस्थानों की जांच के निर्देश दिए हैं जिन्होंने 50 फीसद से ज्यादा की छात्रवृत्ति व प्रतिपूर्ति प्राप्त कर ली है। आय का फर्जी प्रमाणपत्र के आधार पर आवेदन करने वाले व झूठा घोषणा पत्र देने वालों के खिलाफ एफआइआर दर्ज की जाएगी। ऐसे आवेदन अग्रसारित करने वाले संस्थानों के खिलाफ कार्रवाई होगी।


Click Here & Download Govt Jobs UP Official Android App



Click Here to join Govt Jobs UP Telegram Channel