Monday, October 7, 2019

CCSU MEERUT :: ‘गुरुदक्षिणा’ देने पर ही बढ़ते हैं बीएड में नंबर , छात्रों से खुलेआम मांगते हैं पैसे , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

CCSU MEERUT :: ‘गुरुदक्षिणा’ देने पर ही बढ़ते हैं बीएड में नंबर  , छात्रों से खुलेआम मांगते हैं पैसे , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर 






चौधरी चरण सिंह विवि से जुड़े बीएड कॉलेजों में परीक्षार्थियों से पैसे लेकर प्रैक्टिकल में नंबर बढ़ाने का खेल पुराना है। ज्यादातर परीक्षक बीएड में परीक्षक बनने के लिए इच्छुक भी रहते हैं। कुछ परीक्षकों को छोड़ दें तो अधिकांश को गुरुदक्षिणा और सुविधा शुल्क के नाम पर छात्र-छात्रएं पैसे देते हैं। इसके बाद ही उनके प्रयोगात्मक परीक्षा में अंक बढ़ाए जाते हैं।
शनिवार को विवि की बीएड प्रयोगात्मक परीक्षा में 30 से 35 हजार रुपये लेने और उसके बाद नंबर नहीं बढ़ाने का आडियो वायरल हुआ। इसमें बीएड की एक रिटायर शिक्षिका का नाम आ रहा है। विवि में आडियो आने के बाद आरोपों में कितनी सच्चाई है। उसकी जांच चल रही है। लेकिन, यह स्थिति किसी एक कॉलेज या शिक्षक की नहीं है। ज्यादातर कॉलेजों में बीएड में बगैर सुविधा शुल्क दिए बीएड में नंबर नहीं मिलते हैं।
छात्रों से खुलेआम मांगते हैं पैसे
विवि से जुड़े बीएड कॉलेज छात्र- छात्रओं से बीएड के प्रैक्टिकल में खुलेआम पैसे मांगते हैं। जिसकी कोई रसीद छात्रों को नहीं मिलती है। कॉलेज छात्रों से कभी-कभी 50 हजार रुपये तक वसूलते हैं। कॉलेजों का साफ कहना होता है कि उन्हें परीक्षक को देना होता है। यह दूसरी बात है कि कॉलेज परीक्षक को देने के बाद कुछ अंश अपने पास भी रखते हैं। बीएड में सैद्धांतिक परीक्षा और प्रयोगात्मक परीक्षा दोनों में अलग-अलग नंबर होते हैं। जिससे श्रेणी बनती है। इसे देखते हुए ज्यादातर छात्र-छात्रएं अधिक से अधिक नंबर चाहते हैं। कई बार ऐसा भी देखा गया है कि कॉलेज को पैसे देने से मना करने पर कॉलेज नंबर कम कर देते हैं।
’पैसे लेकर बीएड प्रैक्टिकल में नंबर बढ़ाने का खेल पुराना
’विवि में शिकायत मिलने के बाद भी नहीं होती कार्रवाई
डिबार हो सकते हैं परीक्षक
आरोप सही पाए जाने पर विवि इन्हें डिबार भी कर सकता है। फिलहाल, इसकी जांच चल रही है। वहीं दूसरी ओर विवि लिखित परीक्षा की तरह प्रयोगात्मक परीक्षा की वीडियोग्राफी पर भी विचार कर रहा है। विवि के रजिस्ट्रार धीरेंद्र कुमार ने बताया कि पैसे लेकर बीएड में नंबर न बढ़ाने का आडियो वायरल विवि में पहुंचा है। इसकी जांच की जा रही है। इसमें तीन परीक्षकों का नाम आया है। जांच के बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी।


Click Here & Download Govt Jobs UP Official Android App



Click Here to join Govt Jobs UP Telegram Channel