Wednesday, October 9, 2019

शिक्षक का बेटा अब चपरासी नहीं शिक्षक ही बनेगा , योग्यता होने पर मृतक आश्रित को शिक्षक की नौकरी दी जाएगी , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

शिक्षक का बेटा अब चपरासी नहीं शिक्षक ही बनेगा , योग्यता होने पर मृतक आश्रित को शिक्षक की नौकरी दी जाएगी , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर 




शिक्षक के बेटे को चपरासी की नौकरी नहीं दी जाएगी, बल्कि योग्यता होने पर मृतक आश्रित को शिक्षक की नौकरी दी जाएगी।

काफी लंबे प्रयास के बाद शिक्षक के बेटे के लिए शिक्षक की नौकरी पाने का रास्ता साफ हो गया। यह भी तय हुआ कि टीचर बनने लायक आश्रितों को कोर्स कराकर प्रमोट किया जाएगा। उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक मृतक शिक्षणेत्तर कर्मचारी संघ ने यह जंग जीतकर बड़ी उपलब्धि हासिल की है।

बेसिक शिक्षा विभाग में अभी तक शिक्षक के मृतक आश्रित को चपरासी की नौकरी देकर समायोजित कर दिया जाता था।

उसे छोटी नौकरी देकर काम चला दिया जाता था। शिक्षक के बेटे को शिक्षक की नौकरी योग्यता के अनुसार देने की मांग उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक मृतक आश्रित शिक्षणेत्तर कर्मचारी संघ लंबे समय से लड़ रहा था।

लगातार पत्राचार किए जाने के बाद उन्हें जीत हासिल हुई है। संघ के प्रदेश स्तरीय पदाधिकारी सम्मेलन में प्रदेश अध्यक्ष जुबैर आलम द्वारा की गई घोषणा मृतक आश्रितों के लिए काफी सुख देने वाली थी। लखनऊ से लौटे जिलाध्यक्ष मनोज मिश्रा ने बताया कि प्रदेश अध्यक्ष ने परियोजना निदेशालय द्वारा उच्च योग्यताधारी व कम्प्यूटर की डिग्री रखने वाले मृतक आश्रितों को योग्यता के अनुसार काम लेने का आदेश जारी करवा दिया है।

मुख्य सचिव से बार्ता के बाद साफ हो गया कि उच्च योग्यता वाले को नियुक्ति के समय कुछ गलतियां हुई है। यह स्वीकार भी कर लिया। लिहाजा, उच्चीकरण के लिए प्रस्ताव बनाकर सभी जिलों से सूचनाओं को मांगा गया है।

परिचारक के बजाय लिपिक बनेंगे

प्रदेश महामंत्री विनोद कुमार व प्रदेश सचिव पंकज बाजपेई ने बताया कि बीएड व टीईटी वाले शिक्षक बन सकते हैं तो नियुक्त मृतक आश्रित बीएड व टीईटी योग्यताधारी कर्मचारियों को शासन से मंजूरी दी जाएगी। जिससे वह जल्द शिक्षक बन सकें। नया कार्यवृत के अनुसार इंटर व कम्प्यूटर की डिग्री रखने वाले रिक्त पद न होने पर परिचारक की जगह पर लिपिक बनेंगे। इसको लेकर कवायद हुई है।



Click Here & Download Govt Jobs UP Official Android App



Click Here to join Govt Jobs UP Telegram Channel