Saturday, October 12, 2019

कानपुर मंडल के तीन हजार रसोइयों की नौकरी जाएगी , प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों के विलय के बाद बनी नई नीति से खतरे में नौकरी , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

कानपुर मंडल के तीन हजार रसोइयों की नौकरी जाएगी , प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों के विलय के बाद बनी नई नीति से खतरे में नौकरी , क्लिक करे और पढ़े पूरी  खबर 






प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों के विलय के बाद बनी नई नीति से मंडल में हजारों रसोइयों की छंटनी हो जाएगी। पहले प्राथमिक और पूर्व माध्यमिक विद्यालयों में छात्र संख्या के आधार पर अलग-अलग रसोइए तैनात थे। मर्जर के बाद अधिक हो रहे रसोइयों का नवीनीकरण न करने और हटाने के आदेश किए गए हैं।

शहरी क्षेत्र में एमडीएम वितरण एजेंसियों के माध्यम से किया जाता है लेकिन ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालयों में भोजन रसोइयों के माध्यम से तैयार कराया जाता है। पसोइयों का हर वर्ष नवीनीकरण कराया जाता है। सत्र 2019-20 में प्राथमिक और पूर्व माध्यमिक विद्यालयों का विलय होने के बाद रसोइयों के नवीनीकरण नहीं हो पा रहे थे। इस संदर्भ में शासन से दिशा निर्देश मांगा गया था।

अब यह होगा मानक : विलय के बाद विद्यालय में 25 छात्रों पर 01, 26 से 100 पर 02, 101-200 छात्रों पर 03, 201-300 पर 04, 301-1000 पर 05, 1001-1500 पर 06 व 1501 से अधिक पर 07 रसोइयों का नियम लागू होगा।

इन्हें न हटाया जाए: विधवा और परित्यकता की स्थिति में परित्यकता को हटाया जाएगा। पर यह भी कहा गया है कि यथासंभव इन्हें हटाया न जाए।

13 हजार से अधिक रसोइए

कानपुर मंडल में कानपुर में 4000 रसोइए समेत कुल 13 हजार से अधिक रसोइए हैं। मंडल में तीन हजार से अधिक रसोइयों की छंटनी संभव है। बेसिक शिक्षा अधिकारी प्रवीण मणि त्रिपाठी ने बताया कि नियमों के अनुसार ही रसोइयों के नवीनीकरण होंगे। अभी हटाने वाले रसोइयों की स्पष्ट संख्या तय नहीं है।

इस तरह हटाए जाएंगे

रसोइयों की नियुक्ति में उसी स्कूल में पढ़ रहे बच्चे के अभिभावक जैसे माता, दादी, बहन, चाची, ताई और बुआ आदि की नियुक्ति की जाती है। हटाने की स्थिति में इनके अतिरिक्त अन्य रसोइए को हटाया जाएगा। इसके बाद भी यदि कोई अतिरिक्त रसोइया है तो बाद में नियुक्त रसोइए को हटाया जाएगा।


Click Here & Download Govt Jobs UP Official Android App



Click Here to join Govt Jobs UP Telegram Channel