Wednesday, August 14, 2019

’प्रेरणा‘‘ से सुधरेंगे प्राइमरी स्कूल , सुबह व शाम करना होगा फोटो अपलोड , एमडीएम की ‘‘लाइव’ फोटो भी होगी भेजनी , क्लिक करे और पढ़े पूरी पोस्ट

’प्रेरणा‘‘ से सुधरेंगे प्राइमरी स्कूल , सुबह व शाम करना होगा फोटो अपलोड , एमडीएम की ‘‘लाइव’ फोटो भी होगी भेजनी , क्लिक करे और पढ़े पूरी पोस्ट 




सरोजनीनगर में शुरू हुआ पायलेट प्रोजेक्टपांच सितम्बर तक पूरे प्रदेश में लागू होगी व्यवस्था
गिरीश तिवारीलखनऊ। प्राथमिक स्कूलों की बदतर हालत और शिक्षकों की लापरवाही किसी से छिपी नहीं है। कई बार प्रयास हुए लेकिन वे सब के सब धरे के धरे रह गये। कई सरकारों ने जहां इन लापरवाह शिक्षकों से ही तौबा कर ली तो कईयों ने प्रोजेक्ट बनाकर ठंडे बस्ते में डाल लिया। बहरहाल प्रदेश की योगी सरकार ने अब इन स्कूलों को सुधारने का बीड़ा उठा लिया है। प्रदेश के तीन शहरों में पायलेट प्रोजेक्ट के तहत शुरू होने वाली ‘‘प्रेरणा ऐप्प’ से इन विद्यालयों की स्थिति सुधारने की तैयारी हो गयी है। इसके तहत अब सुबह-शाम जहां शिक्षकों की लेटलतीफी के लिए कारपोरेट स्टाइल में अपनी ‘‘स्थिति’ अपलोड करनी होगी तो वहीं अन्य चीजें जैसे एमडीएम और गेम्स पर भी सरकार ‘‘निगरानी’ इसी प्रेरणा ऐप्प से करेगी। प्राथमिक विद्यालयों को सुधारने के लिए प्रदेश सरकार ने प्रेरणा ऐप्प की शुरुआत की है।

बेसिक शिक्षा विभाग सरकार के इस प्रोजेक्ट को पूरा कराने के लिए कटिबद्ध है। पायलट प्रोजेक्ट के तहत तीन शहरों को चिह्नित किया गया है, इसके तहत लखनऊ, कानपुर नगर व बाराबंकी को पहले चरण में शामिल किया है। बेसिक शिक्षा अधिकारी डा.अमरकान्त सिंह ने बताया कि राजधानी में ‘‘प्रेरणा ऐप्प’ के तहत सरोजनीनगर ब्लॉक को लिया गया है। इसके तहत 20 अगस्त तक ब्लाक के अन्तर्गत आने वाले सभी कालेजों अपडेटेड होने हैं। इसके तहत सरोजनीनगर क्षेत्र के 222 स्कूलों के सभी शिक्षक व प्रधानाध्यापक प्रेरणा ऐप्प से सुबह स्कूल में प्रवेश करते समय और शाम को स्कूल से छुट्टी लेते हुए सेल्फी भेजेंगे। इस पायलट प्रोजेक्ट के तहत 18755 बच्चों की उपस्थिति रोजाना बीएसए सुनिश्चित कर सकेंगे। प्रधानाध्यापक व शिक्षक सब पर होगी जिम्मेदारी : ‘‘प्रेरणा ऐप्प’ पर अपनी उपस्थिति देने की जिम्मेदारी न केवल प्रधानाध्यापक की होगी बल्कि शिक्षक, शिक्षामित्र और अनुदेशक को भी अपनी सेल्फी भेजनी होगी। मजेदार बात यह है कि सुबह के साथ ही प्रार्थना सभा, प्रार्थना सभा के समय की, मिड डे मील भोजन के समय की, एमडीएम मील की, खाने के दौरान एक कतार में बच्चों को बैठाकर फोटो, प्रोफाइल को भी भेजना होगा। पांच सितम्बर तक पूरे प्रदेश में होगा लागू : पायलट प्रोजेक्ट के तहत अभी तो सिर्फ राजधानी का एक ब्लाक सरोजनीनगर ही 20 अगस्त तक पूरी तरह से क्रियान्वित होगा, लेकिन इसके अगले चरण के तहत करीब पांच सितम्बर तक पूरे प्रदेश के सभी इलाकों के सभी स्कूलों को इससे जुड़ना होगा। कानपुर नगर, बाराबंकी और लखनऊ में यह शुरू किया गया है, लेकिन पांच सितम्बर-2019 तक पूरे प्रदेश में यह व्यवस्था लागू हो जाएगी। उठने लगे विरोध के स्वर: 20 अगस्त तक सरोजनीनगर के 222 स्कूलों में शुरू होने वाली इस योजना के लिए मीटिंग में तो शिक्षकों व प्रधानाध्यापकों ने कुछ नहीं कहा, लेकिन जैसे ही वे बाहर निकले, उनके अन्दर का गुस्सा बाहर निकल आया।



Click Here & Download Govt Jobs UP Official Android App


Click Here to join Govt Jobs UP Telegram Channel


Click Here To Join Our Official WhatsApp Group