Monday, August 19, 2019

अब प्रदेश में गुरुजी पढ़ेंगे ‘नेतृत्व’ का पाठ , डिग्री कॉलेज शिक्षकों को व्यक्तित्व विकास के लिए मिलेगा प्रशिक्षण , क्लिक करे और पढ़े पूरी पोस्ट

अब प्रदेश में गुरुजी पढ़ेंगे ‘नेतृत्व’ का पाठ , डिग्री कॉलेज शिक्षकों को व्यक्तित्व विकास के लिए मिलेगा प्रशिक्षण , क्लिक करे और पढ़े पूरी पोस्ट 






प्रदेश के डिग्री कॉलेजों में पढ़ाने वाले शिक्षकों का व्यक्तित्व विकास करके उनमें विभाग से जुड़ी प्रशासनिक जिम्मेदारी संभालने का जज्बा पैदा किया जाएगा। शिक्षक अधिकारी के रूप में सोचें, सार्थक निर्णय लेने का जज्बा स्वयं के अंदर पैदा कर सकें, उन्हें इसके लिए प्रशिक्षित किया जाएगा।
हर तीन से चार माह के बीच विशेषज्ञों द्वारा उन्हें प्रशिक्षित किया जाएगा जो उनमें पठन-पाठन के साथ शिक्षा विभाग से जुड़े कार्यो में आ रहे बदलाव, नई तकनीक से जुड़ने का जज्बा पैदा करेंगे। उच्च शिक्षा निदेशालय शिक्षकों को प्रशिक्षित कराने का प्रस्ताव तैयार करके जल्द शासन को भेजेगा, जिसके बाद प्रशिक्षण की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।
कार्यो में बेहतरी के लिए हर विभाग साल-दो साल में प्रशिक्षण कराता है। इसके जरिये संबंधित अधिकारी व कर्मचारी के व्यक्तित्व का विकास करके कार्यो में गुणवत्ता लायी जाती है, लेकिन उच्च शिक्षा विभाग में प्रशिक्षण का प्रावधान नहीं है, जबकि उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग से उच्चतर शिक्षा सेवा समूह ‘क’ के तहत राजकीय डिग्री कॉलेजों के सहायक प्रोफेसर पद का चयन होता है।
सहायक प्रोफेसर बनने वाले कॉलेज में पढ़ाते हैं। फिर पदोन्नति पाकर यही प्राचार्य व उच्च शिक्षा विभाग में निदेशक, संयुक्त निदेशक, संयुक्त सचिव, सहायक निदेशक, अपर सचिव, उपसचिव, मंडलीय उच्च शिक्षाधिकारी, उपसचिव जैसे प्रशासनिक पदों पर आसीन होते हैं। प्रशासनिक पद शैक्षणिक कार्य से भिन्न होता है।
प्रशासनिक पद पर बैठने वाला ही उच्च शिक्षा का नीति निर्धारण करता है, लेकिन उसके मद्देनजर उन्हें प्रशिक्षित नहीं कराया जाता। इससे अधिकतर अधिकारी खुद को शिक्षक की मानसिकता से उबार नहीं पाते। इसके मद्देनजर विभागीय अधिकारियों व डिग्री कॉलेजों के शिक्षकों को प्रशिक्षित करके उनके व्यक्तित्व का विकास करने का निर्णय लिया गया है।
डिग्री कॉलेज शिक्षकों को व्यक्तित्व विकास के लिए मिलेगा प्रशिक्षण
उच्च शिक्षा विभाग व डिग्री कॉलेजों के शिक्षकों के व्यक्तित्व विकास, नेतृत्व क्षमता विकसित करने के लिए प्रशिक्षण न मिलना चिंताजनक है। निदेशालय अपने अधिकारियों व डिग्री कॉलेजों के शिक्षकों को प्रशिक्षित कराने की प्रक्रिया जल्द शुरू करेगा।
डॉ. वंदना शर्मा, निदेशक उच्च शिक्षा
शिक्षक संभालते हैं जिम्मेदारी
’राजकीय पीजी कॉलेज के प्राचार्य उच्च शिक्षा निदेशक, संयुक्त निदेशक, संयुक्त सचिव व क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी तैनात होते हैं’राजकीय डिग्री कॉलेजों के सहायक प्रोफेसर उच्च शिक्षा में सहायक निदेशक, अपर सचिव, उपसचिव, सांख्यिकी शोध अधिकारी बनते हैं।


Click Here & Download Govt Jobs UP Official Android App


Click Here to join Govt Jobs UP Telegram Channel


Click Here To Join Our Official Whatsapp Group