Wednesday, August 14, 2019

2020 में यूपी बोर्ड के 11 लाख परीक्षार्थी , मेरठ परिक्षेत्र में 10वीं में 5,90,889 और 12वीं में 5,02,521 हुए बोर्ड परीक्षा के आवेदन , क्लिक करे और पढ़े पूरी पोस्ट

2020 में यूपी बोर्ड के 11 लाख परीक्षार्थी  , मेरठ परिक्षेत्र में 10वीं में 5,90,889 और 12वीं में 5,02,521 हुए बोर्ड परीक्षा के आवेदन , क्लिक करे और पढ़े पूरी पोस्ट 





माध्यमिक शिक्षा परिषद यूपी बोर्ड के मेरठ परिक्षेत्र कार्यालय के अंतर्गत साल 2020 में बोर्ड परीक्षा के लिए 10,93,410 अभ्यर्थियों ने आवेदन किए हैं। इनमें से 10वीं में 5,90,889 और 12वीं में 5,02,521 छात्र-छात्रएं बोर्ड परीक्षा में शामिल होंगे। मेरठ परिक्षेत्र के अंतर्गत आने वाले चार मंडलों के 17 जिलों के परीक्षार्थी शामिल हैं। साल 2019 की बोर्ड परीक्षा की तुलना में साल 2020 में बोर्ड परीक्षा के लिए 2098 आवेदन अधिक हुए हैं। साल 2019 की बोर्ड परीक्षा में 10,91,312 परीक्षार्थी थे।
40 हजार से अधिक नए आवेदन
साल 2020 की बोर्ड परीक्षा के लिए साल 2018 में ही कक्षा नौवीं व 11वीं के छात्रों का अग्रिम पंजीकरण हुआ था। 2020 के लिए कुल 10,51,951 छात्र-छात्रओं का पंजीकरण हुआ था। इनमें कक्षा नौवीं में 5,65,510 परीक्षार्थी और 11वीं में 4,86,441 छात्र-छात्रओं का पंजीकरण हुआ था। नौवीं व 11वीं के पंजीकरण संख्या से बोर्ड परीक्षा के आवेदनों में 41, 459 आवेदन अधिक हुए हैं। यह वह आवेदन हैं जो साल 2019 की बोर्ड परीक्षा में फेल थे अथवा अन्य बोर्ड से यूपी बोर्ड के स्कूलों में दाखिला लिया है। कक्षा नौवीं में कुल 5,65,510 पंजीकरण हुए थे। 10वीं के बोर्ड परीक्षा आवेदन में 25,379 छात्र बढ़ गए हैं। इसी तरह 11वीं में 4,86,441 छात्रों का पंजीकरण हुआ था। 12वीं में 16,080 आवेदन बढ़ गए हैं। वर्तमान आवेदनों में छटनी और प्राइवेट अभ्यर्थियों के आवेदन के बाद परीक्षार्थियों की संख्या घट-बढ़ सकती है।
पांच साल तक ही रेगुलर छात्र
यूपी बोर्ड ने बोर्ड परीक्षा आवेदनों में फर्जीवाड़ा रोकने के लिए इस साल सख्त कदम उठाया है। अब तक जहां 10 सयाल अधिक पुराने फेल छात्र भी रेगुलर परीक्षार्थी के तौर पर बोर्ड परीक्षा में शामिल होते थे, अब ऐसा नहीं होगा। क्षेत्रीय सचिव राणा सहस्त्रंशु कुमार ‘सुमन’ के अनुसार साल 2020 की बोर्ड परीक्षा से यूपी बोर्ड में केवल पांच साल पुराने फेल छात्र ही रेगुलर परीक्षार्थी बन सकते हैं।
इस साल आवेदन करने वालों में साल 2015 से 2019 तक के ही छात्र ही रेगुलर छात्र के तौर पर परीक्षा दे सकते हैं। इसके पहले के छात्रों को प्राइवेट अभ्यर्थी के तौर पर बोर्ड परीक्षा में शामिल होना होगा।
मेरठ परिक्षेत्र में 10वीं में 5,90,889 और 12वीं में 5,02,521 हुए बोर्ड परीक्षा के आवेदन
नहीं बदली साढ़े चार हजार की जन्म तिथि
पुराने रोल नंबरों पर फर्जी तरीके से बोर्ड परीक्षा में शामिल होने का खेल भी इस साल यूपी बोर्ड ने रोक दिया है। मेरठ परिक्षेत्र के अंतर्गत फर्जी तरीके से पुराने रोल नंबरों पर बोर्ड परीक्षा देकर जन्म तिथि सहित अन्य विवरण बदलने के खेल को रोक दिया गया है। यूपी बोर्ड ने इस साल करीब साढ़े चार हजार अभ्यर्थियों की जन्म तिथि बदलने से मना कर दिया गया है। ऐसा यूपी बोर्ड में पहली बार हुआ है।


Click Here & Download Govt Jobs UP Official Android App


Click Here to join Govt Jobs UP Telegram Channel


ClCLICK HERE TO JOIN OUR WHATSAPP GROUP