Saturday, June 15, 2019

बीएड काउंसलिंग- पैसे ऑनलाइन ट्रांसफर नहीं हो पाए तो छात्र घबराए , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

बीएड काउंसलिंग- पैसे ऑनलाइन ट्रांसफर नहीं हो पाए तो छात्र घबराए , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर 



तकनीकी खामी की वजह से बीएड काउंसलिंग में शुक्रवार को सैकड़ों छात्र-छात्राओं को परेशान होना पड़ा। फीस की रकम ऑनलाइन ट्रांसफर करने की कोशिश में छात्र-छात्राओं के खाते से पैसे कट गए लेकिन कॉलेज के खाते में नहीं पहुंचे। हेल्पलाइन पर दिन भर इस तरह की शिकायतें आती रहीं। शैक्षिक सत्र 2019-20 में एडमिशन के लिए इन दिनों बीएड की काउंसलिंग चल रही है। छह जून से शुरू हुई पहले चरण की काउंसलिंग के लिए बृहस्पतिवार से फीस जमा होने की प्रक्रिया शुरू हुई है। मगर पहले ही दिन से इसमें दिक्कत आनी शुरू हो गई। ऑनलाइन फीस ट्रांसफर के दौरान 1600 छात्र-छात्राओं के खाते से रुपये कट गए लेकिन कॉलेज के खाते में नहीं पहुंचने से आगे की प्रक्रिया लटक गई। शुक्रवार को इसे दुरुस्त किया गया। वहीं, शुक्रवार को भी तमाम अभ्यर्थियों को इसी समस्या से जूझना पड़ा तो वे विश्वविद्यालय पहुंचे। मगर राज्य समन्वयक प्रो. बीआर कुकरेती से उनकी मुलाकात नहीं हो सकी।

दूसरे चरण के लिए 61 हजार ने कराया पंजीकरण
काउंसलिंग के पहले चरण में बृहस्पतिवार को नौ हजार और शुक्रवार को 25 हजार विद्यार्थियों ने फीस जमा की। इस तरह पहले चरण में 34 हजार अभ्यर्थियों का एडमिशन पक्का हो गया। वहीं, दूसरे चरण की काउंसलिंग के लिए शुक्रवार को पंजीकरण का आंकड़ा 61 हजार पहुंच गया।

पहले चरण में पंजीकरण कराकर कॉलेज न पाने वालों को मिलेगा मौका
पहले चरण की काउंसलिंग में पंजीकरण कराने वाले तमाम अभ्यर्थी ऐसे हैं जो किसी कारणवश कॉलेज नहीं भर सके। उन्हें 19 जून को कॉलेज भरने का दोबारा मौका मिलेगा। इसके अलावा कुछ ऐसे भी छात्र-छात्राएं हैं, जिन्होंने दस कॉलेज के नाम भरे लेकिन सीट खाली न होने के चलते कोई कॉलेज नहीं मिला। इन छात्र-छात्राओं को भी 19 जून को दोबारा कॉलेज चुनने का मिलेगा मौका।

इंटरनेट की दिक्कत के चलते देहात क्षेत्र के बैंकों के साथ फीस ट्रांसफर की परेशानी रही है। बृहस्पतिवार को ऐसे 1600 मामले थे, जो शुक्रवार को सही हो गए। शुक्रवार के बाकी मामले भी 24 घंटे में सही हो जाएंगे।
- प्रो. बीआर कुकरेती, राज्य समन्वयक, बीएड प्रवेश परीक्षा