Sunday, May 19, 2019

इलाहाबाद हाईकोर्ट में 75 वरिष्ठ अधिवक्ता घोषित

इलाहाबाद हाईकोर्ट में 75 वरिष्ठ अधिवक्ता घोषित







 : इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 75 अधिवक्ताओं को वरिष्ठ अधिवक्ता घोषित किया है। यह निर्णय फुलकोर्ट बैठक ने न्यायाधीशों के बीच हुए मतदान से लिया है। इससे पहले स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक में 22 अधिवक्ताओं को वरिष्ठ अधिवक्ता नामित करने योग्य नहीं माना गया और उन्हें चुनाव प्रक्रिया से अलग कर दिया गया। 

कुल 78 अधिवक्ताओं में से दो के आवेदन अस्वीकार कर दिया गया व एक का आवेदन टाल दिया गया। अब हाईकोर्ट ने 75 नामों को सीनियर अधिवक्ता के रूप में स्वीकृति प्रदान कर दी है। शीघ्र ही हाईकोर्ट के महानिबंधक की ओर से इस संबंध में अधिसूचना भी जारी की जाएगी।

 फुलकोर्ट बैठक में अन्य कई फैसले भी लिए गए। अध्यक्षता मुख्य न्यायाधीश गोविंद माथुर ने की। सभी जज मौजूद थे, पूरी कार्यवाही मुख्य न्यायाधीश के न्यायकक्ष में ही हुई। हाईकोर्ट में 75 नए नाम जुड़ जाने से सीनियर वकीलों की संख्या बढ़कर 160 हो गई है, जो हाईकोर्ट में स्वीकृत जजों की संख्या के बराबरहै।

चयन से बाहर अधिवक्ता की आपत्ति : जिन्हें सीनियर अधिवक्ता की दौड़ से बाहर कर दिया गया उन्हीं में से एक विष्णु बिहारी तिवारी ने सीनियर अधिवक्ताओं की चयन प्रक्रिया पर गंभीर आपत्ति दर्ज कराई है।

 उन्होंने मुख्य न्यायाधीश को सुबह 10 बजकर 24 मिनट पर पत्र भेजकर बैठक स्थगित करने की मांग की। तिवारी का कहना है कि स्क्रीनिंग कमेटी के एक सदस्य ने बैठक के दौरान अपनाई गई प्रक्रिया को सुप्रीम कोर्ट के इंदिरा जयसिंह केस के फैसले के विपरीत करार दिया।

 इसके विपरीत बिना सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों का पालन किए निर्णय लिया गया है। तिवारी का कहना है कि वे निर्धारित मानकों को पूरा करते हैं, फिर भी उन्हें चयन प्रक्रिया से बाहर कर दिया गया है। तिवारी इस मुद्दे को कोर्ट में याचिका दाखिल करके उठाएंगे।
’>>मुख्य न्यायाधीश की अगुवाई में फुलकोर्ट बैठक में निर्णय
’>>स्क्रीनिंग कमेटी ने 22 अधिवक्ताओं को इस लायक नहीं माना


Click Here & Download Govt Jobs UP Official Android App


Click Here to join Govt Jobs UP Telegram Channel