Friday, March 8, 2019

रेलवे में हाईस्कूल पास हेल्पर भी अब टेक्नीशियन बनेंगे , हाईस्कूल पास हेल्परों को भी इंटेक कोटे में शामिल किया जाएगा ,अब तक आईटीआई और इंटर पास हेल्परों को मिलता था लाभ , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

रेलवे में हाईस्कूल पास हेल्पर भी अब टेक्नीशियन बनेंगे , हाईस्कूल पास हेल्परों को भी इंटेक कोटे में शामिल किया जाएगा ,अब तक आईटीआई और इंटर पास हेल्परों को मिलता था लाभ , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर 




पूर्वोत्तर रेलवे में हाईस्कूल शैक्षिक योग्यता के साथ बतौर हेल्पर भर्ती होने वाले कर्मी भी प्रमोशन के हकदार होंगे। आईटीआई के साथ अब हाईस्कूल हेल्परों को भी इंटेक कोटे में शामिल किया जाएगा। इससे ये कर्मी प्रमोशन पाकर टेक्नीशियन (ट्रेन मरम्मत करने वाले) बनेंगे। पिछले तीन साल से इनके प्रमोशन की चल रही लड़ाई अब समाप्त हो गई। डीआरएम कार्यालय का कार्मिक विभाग अब इन्हें भी प्रमोशन के लिए बुलाएगा। रेलवे अधिकारियों के मुताबिक 25 फीसदी प्रमोशन कोट में इन्हें शामिल करने के लिए जल्द ही नोटिफिकेशन जारी होगा। .

बता दें कि पिछले कई वर्षों से पूर्वोत्तर रेलवे लखनऊ मंडल कार्यालय में हेल्पर से टेक्नीशियन बनने के लिए केवल आईटीआई पास और इंटर पास हेल्परों को ही विभागीय प्रमोशन मिल रहा था। इससे हाईस्कूल पास कर हेल्पर बनने वाले कर्मियों के लिए प्रमोशन के रास्ते बंद हो गए थे। एनई रेलवे मजदूर यूनियन के मंडल मंत्री अजय कुमार वर्मा ने इसको लेकर अधिकारियों से लंबी लड़ाई लड़ी। यूनियन मंडल मंत्री अजय वर्मा ने बताया कि मंडल में हेल्परों की संख्या सवा दो सौ के करीब है। इसमें 25 फीसदी ही कर्मियों को प्रमोशन मिलता है। हाईस्कूल करने वालों को भी इसका लाभ में इसके लिए लड़ाई लड़ी गई, जिसके बाद बुधवार मंडल अधिकारियों ने इस पर अपनी सहमति जताई है। दरअसल, हाल में फरवरी महीने में उत्तर रेलवे के इंटेक कोटे के जारी नोटिफिकेशन को पूर्वोत्तर रेलवे के अधिकारियों को दिखाया गया। इसमें आईटीआई के साथ हाईस्कूल रेलकर्मियों को भी शामिल किया गया था। वर्तमान में कुल 46 पदों के लिए इन्हें भी शामिल किया जाएगा। .

यूनियन कर्मियों की मानें तो लंबे समय से इस मसले का कोई निष्कर्ष नहीं निकल रहा था। मामले को अधिकारियों के समक्ष रख कर हाईस्कूल शैक्षिक योग्यता रखने वाले कर्मियों को भी प्रमोशन में शामिल करने का निर्णय हो गया है। इस प्रकरण में यूनियन के विनय कुमार, लखनऊ के संदीप पांडेय, शैलेंद्र कुमार, राकेश यादव(डीआरएम कार्यालय) और रविशंकर समेत कई साथियों का सहयोग रहा। इसको लेकर हेल्पर रेल कर्मियों में खुशी की लहर दौड़ गई है। .