Sunday, March 17, 2019

सीबीएसई :: परीक्षा नियमों में कई तरह के बदलाव किये , जहां लिखित परीक्षा, वहीं होगा प्रैक्टिकल एग्जाम , नकल पर नियम बदले और सख्ती भी की गई , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

सीबीएसई :: परीक्षा नियमों में कई तरह के बदलाव किये , जहां लिखित परीक्षा, वहीं होगा प्रैक्टिकल एग्जाम , नकल पर नियम बदले और सख्ती भी की गई , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर 




केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद (सीबीएसई) ने अपने परीक्षा नियमों में कई तरह के बदलाव कर दिए हैं। इसे 2020 तक लागू किया जाएगा। अब जहां थ्योरी का सेंटर होगा वहीं प्रैक्टिकल की परीक्षाएं भी कराई जाएंगी। इसकी मार्किंग स्कीम में भी परिवर्तन किया जा रहा है। .

नकल पर नियम बदले और सख्ती भी की गई
सीबीएसई के बदले नियमों के अनुसार 10वीं और 12वीं की अंकतालिकाओं और प्रमाणपत्रों में भी परिवर्तन किया गया है। 12वीं में अंकतालिका और पास के प्रमाणपत्र दोनों दिए जाएंगे लेकिन इंप्रूवमेंट आदि की स्थिति में अब मार्कशीट कम सर्टिफिकेट दिया जाएगा। इसमें पास, फेल या कंपार्टमेंट का उल्लेख किया जाएगा। अतिरिक्त पेपर की स्थिति में केवल अंकतालिका ही दी जाएगी। यह भी उल्लेख होगा कि इंप्रूवमेंट या एकल विषय की परीक्षा दी गई। .

नए नियम के तहत विषय परिवर्तन का अधिकार : नए नियम के तहत कक्षा 10 व 12 में विषय परिवर्तन का अधिकार भी दिया गया है। इसके लिए 15 जुलाई से पहले बोर्ड को आवेदन करना होगा। इसके लिए प्रति विषय 1000 शुल्क देना होगा। .

बोर्ड ने नकल के नियमों में भी बदलाव किया है। इलेक्ट्रानिक गैजेट से नकल की बढ़ी संभावनाओं को देखते हुए इसमें सख्ती की गई है। यदि कोई छात्र पेज फाड़ देता है, आपस में बात करता है तो उसे भी नकल माना जाएगा। आनसर बुक के इतर किसी भी चीज पर लिखना भी नकल होगा। नकल के मामले में शिक्षकों पर भी सख्ती की। वहीं, कक्षा 10 व 12 में 15 जुलाई तक सीधे प्रवेश लेने की छूट होगी। पर यह प्रवेश सशर्त होंगे।