Friday, February 8, 2019

हाईकोर्ट की सख्ती के बाद हड़ताल स्थगित ,देर रात आपात बैठक कर राज्य कर्मचारी नेताओं ने लिया फैसला , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

हाईकोर्ट की सख्ती के बाद हड़ताल स्थगित ,देर रात आपात बैठक कर राज्य कर्मचारी नेताओं ने लिया फैसला , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर 




 हाईकोर्ट की सख्ती के बाद राज्यकर्मियों की महाहड़ताल देर रात स्थगित कर दी गयी। बृहस्पतिवार को हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने राज्यकर्मियों की महाहड़ताल को गैरकानूनी घोषित कर दिया। कोर्ट ने अपने आदेश में राज्य सरकार से हड़ताल की वीडियोग्राफी कराने और इसमें शामिल कर्मचारियों के खिलाफ सख्त कारवाई के निर्देश दिये। सुनवाई के समय अदालत ने कहा कि ऐसे समय जब परीक्षाएं नजदीक हैं और हजारों की संख्या में जनता बीमारी से पीड़ित है, महाहड़ताल एकदम गलत है। यह आदेश न्यायमूर्ति देवेंद्र कुमार अरोड़ा व न्यायमूर्ति अजय भनोट की खंडपीठ ने स्थानीय वकील राजीव मिश्रा की याचिका पर दिये।

राज्य सरकार की ओर से महाधिवक्ता राघवेन्द्र सिंह व मुख्य स्थायी अधिवक्ता श्रीप्रकाश सिंह अदालत में उपस्थित हुए। याची ने अदालत को बताया कि उसके बच्चों की परीक्षाएं होने वाली हैं। वह पति-पत्नी दोनों बीमार हैं। ऐसे में राज्य कर्मचारियों द्वारा हड़ताल से याची सहित अनेक लोगों को बहुत बड़ी हानि हो सकती है। याची की ओर से एक नजीर का भी हवाला देते हुए कहा गया कि राज्यकर्मियों का एक साथ इतनी बड़ी हड़ताल पर जाना गलत है। हाईकोर्ट के इस फैसले के बाद राज्यकर्मियों के विभिन्न संगठनोें के नेताओं ने देर रात आपात बैठक कर महाहड़ताल स्थगित करने का फैसला किया। राजधानी स्थित डिप्लोमा इंजीनियर संघ के भवन में हुई इस बैठक में मंच के अध्यक्ष हरि किशोर तिवारी ने हाईकोर्ट के आदेश के साथ ही अन्य जरूरी बिन्दुओं को सभी के समक्ष रखा। संयोजक दिनेश चन्द्र शर्मा के साथ ही बैठक में अन्य वरिष्ठ पदाधिकारियों ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया कि हाईकोर्ट के आदेश का अनुपालन करते हुए हड़ताल को स्थगित किया जाए।