Sunday, January 6, 2019

प्रदेश में 3587 ग्राम पंचायत अधिकारियों की तैनाती में अनियमितता की शिकायत पर शासन की सख्ती के बाद जांच प्रक्रिया तेज , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

प्रदेश में 3587 ग्राम पंचायत अधिकारियों की तैनाती में अनियमितता की शिकायत पर शासन की सख्ती के बाद जांच प्रक्रिया तेज , क्लिक  करे और पढ़े पूरी खबर 





प्रदेश में 3587 ग्राम पंचायत अधिकारियों की तैनाती में अनियमितता की शिकायत पर शासन की सख्ती के बाद जांच प्रक्रिया तेज हो गई है। जिले में तैनात 133 नवनियुक्त ग्राम पंचायत अधिकारियों के पुलिस व शैक्षिक योग्यता प्रमाण पत्र की जांच शुरू हो गई है। इस कार्रवाई से न सिर्फ जिला पंचायत राज विभाग, बल्कि जिले में तैनात नए सचिवों की सांसें अटक गई हैं कि अब आगे क्या होगा।



कोटवा, महमूदपुर, अकबरपुर, आंबेडकर नगर के अनुराग कुमार तिवारी की तरफ से मुख्य सचिव पंचायतीराज से शिकायत की गई थी। इसे गंभीरता से लेते हुए शासन ने उच्चस्तरीय जांच शुरू कर दी है। निदेशक पंचायती राज ने प्रदेश के सभी जिला पंचायत राज अधिकारियों को पत्र लिखकर चयनित अभ्यर्थियों के शैक्षिक अभिलेखों का सत्यापन कराने के निर्देश दिए थे। आदेश अनुपालन में जिला पंचायत कार्यालय राज अधिकारी आनंद प्रकाश श्रीवास्तव ने सभी नवनियुक्त ग्राम पंचायत अधिकारियों से 26 दिसंबर तक शैक्षिक प्रमाण पत्र सत्यापन के लिए तलब किया था।


इस खबर को 'दैनिक जागरण' ने 21 दिसंबर के अंक में '3587 ग्रापं अफसरों की नौकरी खतरे में' और 24 दिसंबर के अंक में पेज दो पर '125 नवनियुक्त सेक्रेटरी के अभिलेखों का सत्यापन' शीर्षक से प्रमुखता से प्रकाशित किया था। सूत्रों की मानें तो जिले में तैनात 118 और अन्य जिलों से स्थानांतरण कराकर आए 15 सहित कुल 133 सचिवों के मूल पता, जिसमें थाना अंकित हो और जाति प्रमाण पत्र के सत्यापन के लिए पुलिस के पास सूची भेज दी गई है। इसके अलावा हाईस्कूल व इंटरमीडिएट के सर्टिफिकेट को माध्यमिक शिक्षा बोर्ड एवं सीसीसी (ट्रिपल सी) सर्टिफिकेट के सत्यापन के लिए परीक्षा नियंत्रण क्षेत्रीय कार्यालय गोरखपुर भेजने की तैयारी चल रही है। 2015 में निकाला गया था भर्ती विज्ञापन


निदेशक पंचायती राज ने 2015 में निकाले गए विज्ञापन में उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग द्वारा ग्राम पंचायत अधिकारी (सामान्य वर्ग) परीक्षा में चयनित अभ्यर्थियों के शैक्षणिक अभिलेखों (सीसीसी सर्टिफिकेट व अन्य) का सत्यापन संबंधित बोर्ड, विश्वविद्यालय एवं संबंधित संस्थाओं से कराने के लिए प्रदेश के सभी जिला पंचायत राज अधिकारियों को निर्देशित किया है। कुछ इस तरह रही नियुक्ति प्रक्रिया
-21 फरवरी 2016 को विभिन्न केंद्रों पर आयोजित हुई परीक्षा।

-28 अप्रैल 2018 को लिखित परीक्षा का परिणाम घोषित।

-3587 पद के सापेक्ष 14103 अभ्यर्थियों को सफल घोषित किया गया।

-साक्षात्कार 30 मई से 10 सितंबर 2016 तक की अवधि में हुआ।

-24 दिसंबर 2016 को 3587 अभ्यर्थियों को सफल घोषित किया गया।

-विभिन्न जनपदों में तैनात सभी उठा रहे वेतन।


नौकरियों से सम्बन्धित सही, सटीक व विश्वशनीय जानकारी सबसे पहले अपने मोबाइल पर पाने के लिए -