Saturday, November 10, 2018

होम्योपैथिक विभाग में शिक्षक भर्ती में घोटाला , मनचाही तैनाती न मिलने पर खुला भेद , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

होम्योपैथिक विभाग में शिक्षक भर्ती में घोटाला , मनचाही तैनाती न मिलने पर खुला भेद ,  क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर 






एक ऑडियो वायरल हुआ। इसमें विभाग के वरिष्ठ अधिकारी और संविदा पर नौकरी पाए शिक्षक की बातचीत है। संविदा शिक्षक का आरोप है कि पाल साहब को पैसे देने के बावजूद गाजीपुर में तैनाती दी गई। जबकि नोएडा व लखनऊ के आस-पास जिले में तैनाती पर मामला तय हुआ था। हालांकि, अधिकारी ने फोन पर पैसे के लेन-देन की बात को सिरे से खारिज किया है। कहा कि जिसको पैसे दिए उससे बात करें। शासन स्तर पर तैनाती हुई है। डॉक्टरों का आरोप है कि कई नाते-रिश्तेदारों को संविदा पर तैनाती दे दी गई है। राजकीय नेशनल होम्योपैथिक कॉलेज, लखनऊ में भी कई रिश्तेदार भर लिए गए हैं। .

यह मामला करीब तीन माह पुराना है। एक शिक्षक ने फोन पर इस तरह की बात कही थी। भर्ती में किसी भी तरह के पैसे के लेन-देन के आरोप बेबुनियाद हैं। किसी पाल को संविदा शिक्षक ने पैसे दिए होंगे। पाल जी कौन हैं? इस नाम का कोई भी व्यक्ति विभाग में नहीं है। जहां तक तैनाती की बात है वह शासन करता है। इसमें विभाग का कोई हस्तक्षेप नहीं है। विभाग की छवि धूमिल करने के लिए इस तरह की साजिश रची गई है।.
-डॉ. वीके विमल, निदेशक, होम्योपैथिक विभाग.

ऑडियो में संविदा शिक्षक ने साफ आरोप लगाया है कि पैसे लेकर नौकरी दी गई है, लेकिन मनचाही तैनाती मुरादाबाद में नहीं दी गई। इस पर संविदा शिक्षक ने कहा कि आपका पूरा आशीर्वाद नहीं मिला है। इस पर अधिकारी ने कहा कि पैसे लेने देने की बात फोन पर अच्छी नहीं होती है।.

नौकरियों से सम्बन्धित सही, सटीक व विश्वशनीय जानकारी सबसे पहले अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करें हमारी आधिकारिक एप    
प्ले स्टोर से भी Govtjobtsup सर्च करके कर सकते हैं डाउनलोड