Tuesday, November 20, 2018

यूपी टीईटी 18 :: जूनियर में उम्मीद , प्राइमरी में लग सकता है झटका , शिक्षामित्रों के लिए राह आसान करेगा आसान पेपर , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

यूपी टीईटी 18 :: जूनियर में उम्मीद  , प्राइमरी में लग सकता  है झटका , शिक्षामित्रों के लिए राह आसान करेगा आसान पेपर , क्लिक करे और पढ़े  पूरी खबर 





शिक्षकों की नियुक्ति को अनिवार्य शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) में उत्तर प्रदेश के स्टूडेंट के लिए प्राइमरी और जूनियर स्तर के रिजल्ट चौंकाने वाले होंगे। जूनियर का रिजल्ट जहां पिछले वर्षों के मुकाबले बढ़ने की उम्मीद है वहीं बीएड छात्रों के लिए दस वर्ष बाद हुई टीईटी में झटका लग सकता है। प्राइमरी स्तर पर गणित और बाल मनोविज्ञान के पेपर मध्यम से कठिन स्तर के रहे। .

पर्यावरण विज्ञान में संविधान के सवालों से भी छात्र चौंक गए। सबसे ज्यादा नुकसान अंग्रेजी को मुश्किल समझकर संस्कृत चुनने वाले छात्रों को रहा। अंग्रेजी इस वर्ष आसान रही। .

टीईटी के तुरंत बाद सोशल मीडिया पर विभिन्न कोचिंग सेंटर की उत्तर कुंजियां लगातार वायरल हो रही हैं। सबसे अपने-अपने दावे हैं। प्राइमरी स्तर पर तीन से पांच सवाल ऐसे हैं जिनके उत्तर अलग-अलग केंद्रों के हिसाब से अलग हैं। कुछ सवाल ऐसे भी है जिनके एक से अधिक उत्तर हो सकते हैं। ऐसे में आधिकारिक रूप से उत्तर कुंजी जारी होने के बाद ही तसवीर साफ होगी, लेकिन इतना तय है कि रिजल्ट उलटफेर वाले होंगे। शिक्षकों की माने तो बड़ा बदलाव प्राइमरी स्तर पर होगा। .

प्राइमरी में करीब 12 लाख छात्रों ने टीईटी दिया है। प्राइमरी स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति को 70 हजार नौकरियां भी होनी हैं। ऐसे में इसमें छात्र-छात्राओं का सबसे ज्यादा फोकस है। शिक्षकों के अनुसार जूनियर स्तर का पेपर हमेशा प्राइमरी से कठिन होता है, लेकिन रविवार का टीईटी इसके उलट रहा। जूनियर बेहद आसान रहा जबकि प्राइमरी थोड़ा मुश्किल। .

जूनियर स्तर पर आसार पेपर का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि अधिकांश छात्रों ने मात्र दो घंटे में इसे पूरा कर दिया जबकि प्राइमरी में आखिरी मिनट में भी छात्र जूझते रहे। प्राइमरी स्तर पर गणित और संस्कृत थोड़ा मुश्किल रहा। .

इसमें भी अंग्रेजी को छोड़ जिन छात्रों ने संस्कृत चुनी उन्हें मुश्किल हुई। संस्कृत बैकग्राउंड के छात्रों के लिए हिन्दी और संस्कृत दोनों ही स्कोरिंग रहे।.

मेरठ। टीईटी की परीक्षा में कुछ परीक्षा केंद्रों में अभ्यर्थियों के प्रवेश पत्र भी रखवा लिए गए थे, जबकि प्रवेश पत्रों को रखा जाना गलत था। डीआईओएस गिरिजेश कुमार चौधरी के अनुसार प्रवेश पत्र रखवाने का कोई निर्देश नहीं था। इस बारे में जानकारी कर केंद्रों से बात की जाएगी।.

WhatsApp Group 13

नौकरियों से सम्बन्धित सही, सटीक व विश्वशनीय जानकारी सबसे पहले अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करें हमारी आधिकारिक एप    
प्ले स्टोर से भी Govtjobtsup सर्च करके कर सकते हैं डाउनलोड