Tuesday, October 30, 2018

बीएड में प्रवेश के लिए अब अल्पसंख्यको के कोटे में दूसरे समुदाय के विद्यार्थियों को नहीं मिलेगा प्रवेश , बीएड में प्रवेश के लिए अल्पसंख्यक महाविद्यालयो को जारी किये गए निर्देश , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

बीएड में प्रवेश के लिए अब अल्पसंख्यको के कोटे में दूसरे समुदाय के विद्यार्थियों को नहीं मिलेगा प्रवेश , बीएड में प्रवेश के लिए अल्पसंख्यक महाविद्यालयो को जारी किये गए निर्देश , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर 



प्रदेश के अल्पसंख्यक दर्जा प्राप्त डिग्री कालेजों में बीएड की प्रवेश व्यवस्था में बदलाव कर दिया गया है। प्रदेश में अल्पसंख्यक महाविद्यालयों में अब बीएड की 50 फीसद सीटें ही प्रबंध तंत्र भर सकेगा, शेष 50 फीसद सीटों पर प्रवेश सम्बन्धित विविद्यालय के स्तर से किया जा सकेगा। अभी तक अल्पसंख्यक डिग्री कालेजों की बीएड की सभी सीटों पर प्रवेश कालेजों के प्रबंध तंत्र करते रहे हैं। उच्च शिक्षा विभाग की अपर मुख्य सचिव अनीता भटनागर जैन ने प्रवेश को लेकर नयी व्यवस्था का शासनादेश भी जारी कर दिया है और सभी राज्य विविद्यालयों के कुलसचिवों को इस बावत शासनादेश जारी कर इसी पर अमल के लिए निर्देश दिये हैं।

 उन्होंने बताया कि अभी तक अल्पसंख्यक महाविद्यालयों में बीएड की सभी सीटों पर प्रवेश प्रबंधन के स्तर से किया जाता था, इनमें 50 फीसद सीटों पर वह अल्पसंख्यक वर्ग के छात्र-छात्राओं को दाखिला देते थे, बाकी की सीटों पर अन्य समुदाय के छात्र-छात्राओं को प्रवेश देकर सीटें भरी जाती थीं। इस व्यवस्था को संधोधित करते हुए अब नयी प्रक्रिया को तय कर दिया गया है। इसके तहत उत्तर प्रदेश राज्य विवि अधिनियम 1973 के तहत घोषित अल्पसंख्यक कालेजों में 50 फीसद प्रबंधकीय श्रेणी की सीटों पर उक्त अल्पसंख्यक समुदाय के छात्र-छात्राओं को बीएड में दाखिला दिया जाएगा। इसके बाद बची 50 प्रतिशत सीटों पर प्रवेश सम्बद्धता देने वाले विविद्यालयों के स्तर से प्रवेश दिये जाएंगे। इन सीटों पर प्रबंध तंत्र द्वारा स्वेच्छा से प्रवेश नहीं लिया जा सकेगा। इस नयी व्यवस्था का अनुपालन कराने के लिए सभी विविद्यालयों के कुलसचिवों को जिम्मा सौंपा गया है। अब अगले सत्र से होने वाले बीएड के सभी प्रवेशों में नयी व्यवस्था का ही अनुपालन कराया जाएगा। डा. अनिता भटनागर जैन ने बताया कि प्रदेश में बीएड को लेकर तय की गयी इस व्यवस्था से 21 अल्पसंख्यक महाविद्यालय आच्छादित होंगे। इनमें सबसे ज्यादा छह लखनऊ में है। इसके साथ कानपुर नगर में 3, गोरखपुर 2, बागपत में 2, मुजफ्फरनगर में 2 व शाहजहांपुर, बिजनौर, आजमगढ़, आगरा, मेरठ, सहारनपुर में एक-एक महाविद्यालय हैं।

नौकरियों से सम्बन्धित सही, सटीक व विश्वशनीय जानकारी सबसे पहले अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करें हमारी आधिकारिक एप    
प्ले स्टोर से भी Govtjobtsup सर्च करके कर सकते हैं डाउनलोड