Wednesday, May 16, 2018

प्रदेश के सहायता प्राप्त उच्च प्राथमिक स्कूलों (जूनियर हाईस्कूल) में प्रधानाध्यापक एवं सहायक अध्यापकों की भर्ती का रास्ता हुआ साफ , प्रदेश के सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को न्यूनतम मानक के अनुसार प्रधानाध्यापक व शिक्षकों की भर्ती करने के लिए दिए गए निर्देश , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

प्रदेश के सहायता प्राप्त उच्च प्राथमिक स्कूलों (जूनियर हाईस्कूल) में प्रधानाध्यापक एवं सहायक अध्यापकों की भर्ती का रास्ता हुआ साफ , प्रदेश के सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को  न्यूनतम मानक के अनुसार प्रधानाध्यापक व शिक्षकों की भर्ती करने के लिए दिए गए निर्देश , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर 




प्रदेश के सहायता प्राप्त उच्च प्राथमिक स्कूलों (जूनियर हाईस्कूल) में प्रधानाध्यापक एवं सहायक अध्यापकों की भर्ती का रास्ता साफ हो गया है। बेसिक शिक्षा निदेशक डॉ. सर्वेन्द्र विक्रम बहादुर सिंह ने 26 अप्रैल को सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को निर्देशित किया है कि न्यूनतम मानक के अनुसार प्रधानाध्यापक व शिक्षकों की भर्ती की जाए।.

सरकार ने तीन जून 2016 को प्रधानाध्यापकों व सहायक अध्यापकों की भर्ती के लिए शासनादेश जारी कर 31 जुलाई 2016 तक प्रक्रिया पूरी करने को कहा था लेकिन प्रबंधकीय व अन्य विवाद के कारण अधिकतर स्कूलों में नियुक्ति नहीं हो सकी। .

इस पर नेहरू किसान विद्यालय जूनियर हाईस्कूल सहारनपुर ने हाईकोर्ट में याचिका कर पद भरे जाने की अनुमति मांगी। हाईकोर्ट ने 31 जनवरी 2017 को स्कूल प्रबंधकों के पक्ष में फैसला सुनाया। उसके अनुपालन में निदेशक बेसिक शिक्षा ने 26 अप्रैल को पत्र जारी कर मानक के अनुसार खाली पद भरे जाने के निर्देश सभी बीएसए को दिये हैं।.

' प्रधानाध्यापक के एक और सहायक अध्यापक के चार पद का है न्यूनतम मानक.

' भर्ती के लिए प्रबंधतंत्र बीएसए को प्रक्रिया शुरू करने का प्रस्ताव भेजेगा.

' रिक्त पद इस प्रकार भरे जाएं कि स्कूल में सभी विषयों को पढ़ाने वाले अध्यापक उपलब्ध हों.

' जूनियर हाईस्कूल के इंटरमीडिएट स्तर पर उच्चीकृत होने की स्थिति में वहां प्रधानाध्यापक का पद भरने की अनुमति नहीं मिलेगी.

नौकरियों से सम्बन्धित हर जानकारी को अपने मोबाइल पर पाने के लिए हमारी आधिकारिक एप डाउनलोड करें